Breaking News
  • कर चोरी के मामले में पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष अमरिंदर सिंह और उनके बेटे पर चार्जशीट दायर
  • अमृतसर में HeartofAsia सम्मेलन का आगज, पीएम मोदी और अफगानिस्तान के राष्ट्रपति होंगे शामिल
  • पाकिस्तान की ओर से सरताज अजीज बैठक में लेंगे हिस्सा

नोटबंदी के साइड इफेक्ट, दुकानदार ने राशन देने से किया मना तो लोगों ने सरेआम लूटी दुकान…

BHOPAL:-  देश के बैंक खातों में तो पैसे हैं लेकिन खाने को जेब में नहीं। लिहाजा लोग अब लूट-पाट पर उतर आए हैं। मध्य प्रदेश स्थित छतरपुर जिले में कुछ ऐसा हुआ जिसका किसी को अंदाजा नहीं था। यहां के बमीठा स्थित झमटुली गांव में लोगों को 100 का नोट नहीं मिल रहा था जिसके चलते लोगों ने राशन की दुकान ही लूट डाली।

बताया गया कि शुक्रवार सुबह सरकारी राशन के वितरक मुन्नी लाल ने दुकान खोली तुरंत गांव के लोग 500 और 1,000 के नोट लेकर राशन खरीदने गए।  लेकिन वितरक ने राशन देने से इनकार कर दिया। इस पर दुकान में रखा करीब 100 किलो गेंहू और चावल ग्रामीण लूट ले गए।

वहीं वितरक मुन्नी लाल का आरोप है कि ग्रामीणों ने यह काम सरपंच नोने लाल की शह पर किया है। अहिरवार ने पुलिस को की गई शिकायत में कहा कि ग्रामीणों के पास अनाज खरीदने के लिए नकद राशि नहीं थी, इसलिए ग्रामीणों ने दुकान से अनाज लूट लिया। बमीठा थाने में सरपंच और ग्रामीणों के खिलाफ खाद्यान लूटने की शिकायत दर्ज कराई है। हालांकि पुलिस ने लूट की घटना से इंकार करते हुए कहा कि ग्रामीणों और दुकानदार के बीच राशन को लेकर विवाद हुआ था।

बरद्वाहा गांव के सरपंच नोनेलाल ने आरोप लगाया कि ग्रामीणों को चार माह से सरकारी उचित मूल्य की दुकान से अनाज नहीं मिल रहा था। ग्रामीणों ने इस मामले में पुलिस और मुख्यमंत्री हेल्पलाइन को भी शिकायत दर्ज कराई थी, लेकिन उस पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। सरपंच ने दुकानदार द्वारा ग्रामीणों पर लगाये गए अनाज लूटने के आरोप का खंडन किया।

दुकान लूटने की घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। वीडियो में कुछ लोग दुकान से बहुत तेजी से सामान लेकर लूटते हुए साफ दिखाई दे रहे हैं। छतरपुर पुलिस मामले की जांच कर रही है।