Breaking News
  • असम में आज दोपहर 1.55 बजे तक कोरोना के 111 नए मामले, कुल संख्या 1672 हुई
  • 69,000 सहायक शिक्षकों की चल रही भर्ती प्रक्रिया पर लखनऊ हाईकोर्ट बेंच ने लगाई रोक
  • IB कर्मचारी अंकित शर्मा मर्डर केस में तारीन हुसैन का हाथ, दिल्ली पुलिस ने दाखिल की चार्जशीट
  • महाराष्ट्र में कोंकण तट से टकराया निसर्ग चक्रवात, 100 KMPH की रफ्तार से चल रही है हवाएं
  • हर प्रवासी मजदूर को 10 हजार की एकमुश्त मदद दे केंद्र : ममता बनर्जी

बाल मजदूरी के जिंदा सबूत देखिए

हमीरपुर: देश मे चाहे कितनी ही अच्छी कानून व्यवस्था क्यों न हो जाये...लेकिन लोग कानून उलंधन करने से बाज नही आते। एक तरफ जहां बाल मजदूरी को रोकने के लिए कानून बनाये गए और देश कई प्राइवेट संस्थान इसके लिए काम कर रहे है। लेकिन बाल मजदूरी तो रुकने का नाम नही ले रही है। लेकिन अब मजदूरी के नाम पर बच्चों की खरीद फरोख्त भी चालू हो गयी है।

ताजा मामला हमीरपुर जिले के इंगोहटा गांव का है। जहां टावर में काम दिलाने के बहाने 10 युवकों को इट भठ्ठे में बेच दिया गया है। बंधक युवकों से बधुआ मजदूरी कराई जा रही है। मामले को लेकर युवकों के परिजनों का कहना है कि बंधक बनाए गए युवको के साथ मार-पीट तक की जा रही है।

परिजनों का कहना है कि बंधन बनाए गए युवको का फोन तक छिन लिया गया है लेकिन उन्हीं में शामिल एक युवक ने फोन को छुपा लिया था जिससे उसने इस घटना की जानकारी दी। बता दें कि भट्टे में युवकों से मार पीट के साथ भूखे पेट उनसे जबरस्ती काम करवाया जा रहा है। हालांकि युवकों के परीजनों ने थाने में तहरीर देकर सभी को मुक्त कराने की गुहार लगाई है। फिलहाल पुलिस ने एक युवक को गिरफ्तार कर पूछताछ कर रही है।

loading...