Breaking News
  • देश के कई राज्यों में बाढ़ का कहर, सेना और एनडीआरएफ की टीमें बचावा कार्य में जुटी हैं
  • बिहार: रात भर चला ड्रामा, तेजस्वी बोले- ‘हमें मिले सरकार बनाने का मौका, ये तानाशाही है’
  • बिहार: महागठबंध से अलग हुए नीतीश- BJP के साथ बनाई नई सरकार, शपथ ग्रहण आज
  • रामेश्वरम में डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम मेमोरियल का उद्घाटन- पीएम मोदी की मौजूदगी में

अब ‘गन्दा और किन्नर’ के बदले जाएंगे नाम, सरकार ने दिया आदेश!


चंडीगढ़: गन्दा और किन्नर जैसे नाम सुनते ही आपके दिमाग में क्या ख्याल आता है। हमें लगता है जो ख्याल इन शब्दों को लेकर हर आम नागरिक के दिमाग में आता होगा वैसे ही आप भी सोचते होंगे। तो बतादें कि हरियाणा सरकार ने अपने यहाँ गन्दा और किन्नर नाम के दो गावों के नाम बदलने का फैसला लिया है।   

हरियाणा के लिए शर्मिन्दगी की वजह बने दो गावों को केंद्र सरकार ने नाम बदलने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। हरियाणा के फतेहाबाद जिले के गांव ‘गंदा’ और हिसार जिले के गांव ‘किन्नर’ का नाम बदला जायेगा। सरकार अब हरियाणा सरकार गांव ‘गंदा’ का नाम बदलकर अजीत नगर और किन्नर गांव का नाम बदलकर गैबी नगर कर ने वाली है।

भारत-चीन विवाद: निकल गयी चीन की हेकड़ी, भारत की करनी पड़ी इस काम को लेकर सराहना​

बतादें कि हरियाणा के इन दो गावों गन्दा और किन्नर के कारण लोगों को बड़ी शर्मिंदगी का सामना करना पड़ता था। स्थानिय निवासियों का कहना था कि उन्हें अपने गांव के नाम के कारण शर्मिंदगी महसूस होती है। जिसके बाद हरियाणा सरकार ने दोनों के नाम बदलने का प्रस्ताव केंद्र को भेजा था।

कैसे मामला गाँव से निकलकर केंद्र तक पहुंचा

यहाँ की आठवीं कक्षा में पढ़ने वाली छात्रा हरप्रीत कौर ने स्कूल में नाम लिखने के बाद शर्मिंदगी झेलने के बाद पीएम नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखकर गाँव के नाम बदलने की मांग की थी। गाँव का नाम गन्दा होने के कारण उसे स्कूल में अक्सर परेशान किया जाता था।

पकड़ा गया लालू परिवार: बंद कमरे हुआ मां-बेटे का सच से सामना​

इससे आहत होकर हरप्रीत ने एक दिन प्रधानमंत्री कार्यालय को चिट्ठी लिखी दी। हरप्रीत की लिखी चिठ्ठी एक मुहीम में बदल गयी जिसके बाद सरकार ने इस ओर ध्यान देते हुए नाम बदलने की प्रक्रिया शुरू की। वहीं दूसरी ओर हिसार के गाँव किन्नर को लेकर भी यही हाल था। किन्नर नाम होने के कारण लोगों को खासकर युवाओं को बहुत ही शर्मिन्दा होना पड़ता था। जिसके बाद लोगों ने सरकार से मांग कर गाँव का नाम बदलने की मांग की। जिसके बाद सरकार ने दोनों नामों को बदले की सिफारिश केंद्र को भेज दी। 

loading...