Breaking News
  • भारत ने UNSC में कहा- पाकिस्तान में आंतकी ठिकानों को नष्ट करने पर हमारा फोकस
  • भारत ने युद्ध विराम के उल्लंघन पर पाकिस्तान के उप उच्चायुक्त को तलब किया
  • अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने एफआईएसए संशोधन पुनः अधिकार अधिनियम पर हस्ताक्षर किया
  • जम्मू-कश्मीर के आर एस पुरा और Arniya सेक्टर में गोलीबारी
  • गुजरात की पूर्व मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल मध्य प्रदेश की राज्यपाल होंगी

अब ‘गन्दा और किन्नर’ के बदले जाएंगे नाम, सरकार ने दिया आदेश!

चंडीगढ़: गन्दा और किन्नर जैसे नाम सुनते ही आपके दिमाग में क्या ख्याल आता है। हमें लगता है जो ख्याल इन शब्दों को लेकर हर आम नागरिक के दिमाग में आता होगा वैसे ही आप भी सोचते होंगे। तो बतादें कि हरियाणा सरकार ने अपने यहाँ गन्दा और किन्नर नाम के दो गावों के नाम बदलने का फैसला लिया है।   

हरियाणा के लिए शर्मिन्दगी की वजह बने दो गावों को केंद्र सरकार ने नाम बदलने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। हरियाणा के फतेहाबाद जिले के गांव ‘गंदा’ और हिसार जिले के गांव ‘किन्नर’ का नाम बदला जायेगा। सरकार अब हरियाणा सरकार गांव ‘गंदा’ का नाम बदलकर अजीत नगर और किन्नर गांव का नाम बदलकर गैबी नगर कर ने वाली है।

भारत-चीन विवाद: निकल गयी चीन की हेकड़ी, भारत की करनी पड़ी इस काम को लेकर सराहना​

बतादें कि हरियाणा के इन दो गावों गन्दा और किन्नर के कारण लोगों को बड़ी शर्मिंदगी का सामना करना पड़ता था। स्थानिय निवासियों का कहना था कि उन्हें अपने गांव के नाम के कारण शर्मिंदगी महसूस होती है। जिसके बाद हरियाणा सरकार ने दोनों के नाम बदलने का प्रस्ताव केंद्र को भेजा था।

कैसे मामला गाँव से निकलकर केंद्र तक पहुंचा

यहाँ की आठवीं कक्षा में पढ़ने वाली छात्रा हरप्रीत कौर ने स्कूल में नाम लिखने के बाद शर्मिंदगी झेलने के बाद पीएम नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखकर गाँव के नाम बदलने की मांग की थी। गाँव का नाम गन्दा होने के कारण उसे स्कूल में अक्सर परेशान किया जाता था।

पकड़ा गया लालू परिवार: बंद कमरे हुआ मां-बेटे का सच से सामना​

इससे आहत होकर हरप्रीत ने एक दिन प्रधानमंत्री कार्यालय को चिट्ठी लिखी दी। हरप्रीत की लिखी चिठ्ठी एक मुहीम में बदल गयी जिसके बाद सरकार ने इस ओर ध्यान देते हुए नाम बदलने की प्रक्रिया शुरू की। वहीं दूसरी ओर हिसार के गाँव किन्नर को लेकर भी यही हाल था। किन्नर नाम होने के कारण लोगों को खासकर युवाओं को बहुत ही शर्मिन्दा होना पड़ता था। जिसके बाद लोगों ने सरकार से मांग कर गाँव का नाम बदलने की मांग की। जिसके बाद सरकार ने दोनों नामों को बदले की सिफारिश केंद्र को भेज दी। 

loading...