Breaking News
  • दिल्लीः पूर्व भाजपा अध्यक्ष मांगेराम गर्ग का निधन
  • पूर्व मुख्यमंत्री और दिल्ली कांग्रेस की अध्यक्ष शीला दीक्षित का दिल्ली में अंतिम संस्कार
  • महेंद्र सिंह धोनी ने वापस लिया वेस्टइंडीज़ दौरे से नाम
  • भारतीय एथलीट हिमा दास ने 400 मीटर रेस में मारी बाजी, एक महीने में 5वां गोल्ड मेडल

बड़ा खुलासा- ISI के लिए जासूसी करता है यह BJP का नेता !

भोपाल: मध्य प्रदेश पुलिस (एटीएस) की टीम ने पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI के लिए जासूसी करने के आरोप में राज्य के अगल-अगल जगहों से 11 लोगों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार आरोपियों पर कॉल सेंटर की आड़ में सेना से जुड़ी गोपनीय जानकारी पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी को भेजने का आरोप है।

मामले में शुक्रवार को एक चौकाने वाला खुलासा हुआ है, बताया जा रहा है कि ISI के लिए जासूसी के आरोप में गिरफ्तार आरोपियों में एक ध्रुव सक्सेना नाम का व्यक्ति भी शामिल है, जोकि केंद्र और राज्य की सत्ताधारी पार्टी बीजेपी का नेता बताय जा रहा है।

आपको बता दें कि ध्रुव सक्सेना का भाजपा महासचिव कैलाश विजय वर्गीय के साथ फोटो है जो उसकी फेसबुक पर मौजूद है। इसके अलावा ध्रुव सक्सेना मध्यप्रदेश मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, भोपाल के महापौर अलोक शर्मा, भोपाल के सांसद अलोक संजर के साथ भी मंच साझा करने के साथ-साथ फोटो भी खीचा चुका है।

आपको बता दें कि इस खुलासे के बाद कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने ट्वीट कर कहा कि आईएसआई के एजेंटों में एक भी मुसलमान नहीं है, उनमें एक भाजपा का सदस्य शामिल है। उन्होंने आगे लिखा कि मोदी भक्तों कुछ सोचो!

गौर हो कि इससे पहले मामले का खुलासा करते हुए गुरुवार को एटीएस चीफ संजीव शमी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि इस जासूसी रैकेट में अब तक ग्वालियर से 5, भोपाल से 3, जबलपुर से 2 और सतना से एक आरोपी को गिरफ्ता किया गया है।

संजीव शमी के अनुसार इस पूरे रैकेट में निजी मोबाइल कंपनियों के कर्मचारियों के भी मिलीभगत होने के संकेत  मिल रहे हैं। बताया जा रहा है कि आरोपी कॉल सेंटर चनाने के आड़ में नौकरी और लॉटरी की आड़ में सूचनाओं का लेन-देन किया तरता था।

आपको बता दें कि साल 2016 में जम्मू-कश्मीर में सुखविंदर और दादू नाम के 2 आरोपियों की गिरफ्तारी हुई थी। जिसके बाद पूछताछ में इन दोनों आरोपियों ने खुलासा किया था कि देशद्रोही गतिविधियों में मध्य प्रदेश से इन्हें मदद मुहैया कराई जा रही थी। इसी जानकारियों को आधार बनाकर ATS अब तक 11 लोगों को गिरफ्त में ले चुका है। जिनसे भी पूछताछ जारी है और कई अहम खुलासे हो सकते है।

loading...