Breaking News
  • सोनभद्र जाने पर अड़ी प्रियंका गांधी, धरने का दूसरा दिन
  • असम और बिहार में बाढ़ से 150 लोगों की गई जान, 1 करोड़ से अधिक लोग प्रभावित
  • इलाहाबाद हाइकोर्ट ने पीएम मोदी को जारी किया नोटिस, 21 अगस्त को सुनवाई
  • कर्नाटक पर फैसले के लिए अब सोमवार का इंतजार

‘जय श्री राम’ के नारे पर मीडिया पर जमकर बरसी ममता, बताया धुन पर नाचनेवाला

पश्चिम बंगाल में ‘जय श्री राम’ के नारे पर शुरू हुआ विवाद लगातार बढ़ता जा रहा है। जहां एक तरफ बीजेपी कार्यकर्ता ‘जय श्री राम’ के नारे लगाकर, तो कभी सीने पर राम का नाम लिखवाकर, सीएम ममता बनर्जी को उकसाने में लगे है। वहीं दूसरी तरफ ममता बनर्जी इस मुद्दे को लेकर मीडिया के सामने आई है। जहां उन्होंने पहले तो बीजेपी को अपने निशाने पर लिया, फिर मीडिया पर भी जमकर गोले बरसाएं।

बता दें कि पश्चिम बंगाल में लोकसभा चुनाव के पहले से शुरू हुआ ‘जय श्री राम’ पर विवाद लगातार गरमाता जा रहा है। इसे लेकर कभी बीजेपी का वार सामने आता है तो कभी टीएमसी का पलटवार। वहीं एक बार फिर मामले को लेकर टीएमसी प्रमुख ममत बनर्जी मीडिया के सामने आई है, जहां उन्होंने बीजेपी पर राम के नारे का इस्तेमाल कर अपनी सियासी रोटी सेकने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि बीजेपी का 'जय श्री राम' का नारा विकृत है। बीजेपी ने इस नारे के मूल से ‘मां सीता’ को हटाया है। इस नारे का मूल 'जय सिया राम' है।

अपने प्रेस कांफ्रेंस में पहले तो ममता ने बीजेपी को आड़े हाथ लिया वहीं मीडिया कर्मियों पर भी जमकर बरसीं। ममता ने कहा, "बीजेपी जो कुछ भी कहती है आप लोग उसे लिखते हैं।“ आप लोग बीजेपी की धुन पर नाच रहे हैं। लेकिन मैं ऐसा नहीं करूंगी, मैं कुरान, पुराण, वेद, वेदांत, बाइबिल और गुरु ग्रंथ साहिब को मानूंगी। मैं बीजेपी के नारे को नहीं मानूंगी। ‘जय सिया राम' का नारा उत्तर प्रदेश में इस्तेमाल किया जाता है, इसका मतलब है राम और सीता की महिमा।

गौरतलब है कि जय श्री राम के नारे पर टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी अक्सर अपना आपा खो बैठती हैं। जिसके कुछ वीडियो भी सोशल मीडिया पर लगातार वायरल हो रहे थे। जिसमें वे जय श्री राम नारे लगाने वाले व्यक्तियों पर भड़कती होती है। इसे लेकर ममता ने बीजेपी कार्यकर्ताओं को चुनौती दी है कि अगर हिम्मत है तो वे उसके सामने आकर नारा लगाएं।

loading...