Breaking News
  • चार धाम यात्रा: छह महिने के बाद खुले केदारनाथ धाम के कपाट, कल खुलेंगे बद्रीनाथ के कपाट
  • वो (ममता) अब मेरे लिए पत्थरों और थप्पड़ों की बात करती हैं: मोदी
  • पश्चिम बंगाल के बांकुरा में पीएम मोदी की चुनावी रैली, ममता पर बोला हमला
  • लोकसभा चुनाव में 200 सीटों के अंदर सिमट जाएगी एनडीए: चंद्रबाबू नायडू
  • पश्चिम बंगाल में वोटिंग के दौरान हिंसा, दमदम में रो पड़े मतदान अधिकारी
  • गोडसे विवाद पर नीतीश, साध्वी प्रज्ञा का बयान बर्दाश्त से बाहर, पार्टी से निकाला जाए
  • लोकसभा चुनाव: सातवें व अंतिन चरण में 8 राज्यों की 59 सीटों पर वोटिंग

बीजेपी के 'चाणक्य' पहुंचे MP, वालंटियर के साथ चाय पर करेंगे चर्चा

भोपाल: आगामी विधानसभा सभा चुनाव और लोकसभा चुनाव को लेकर बीजेपी के चाणक्य कहे जाने वाले अमित शाह मैदान में उतर चुके हैं। वैसे शाह की चुनावी तैयारी सालभर चलती है लेकिन इस साल विधानसभा और अगली साल आम चुनाव हैं। ऐसे में शाह लगातार राज्यों का दौरा कर रहे हैं।

बतादें कि भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) प्रमुख अमित शाह लोकसभा और और राज्य की आगामी विधानसभा चुनाव की तैयारी के लिए मंगलवार को मध्य प्रदेश पहुंचे हुए हैं। मंगलवार को जबलपुर के डुमना हवाईअड्डे पहुंचने पर राज्य के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, बीजेपी प्रदेश प्रमुख राकेश सिंह सहित कई नेताओं ने उनका स्वागत किया। जिसके बाद बीजेपी प्रमुख अमित शाह भेड़ाघाट स्थित मोटल मार्बल रॉक्स में लोकसभा चुनाव प्रबंध समिति एवं विधानसभा चुनाव प्रबंध समिति की बैठक करने के लिए रवाना हो गये हैं।बताया जा रहा है कि शाम तक अमित शह के कई कार्यक्रम लगे हुए हैं।

अटल की तबीयत को लेकर एम्स से आई बुरी खबर...

जिसमें वह बीजेपी के स्पेशल सोशल मीडिया वालंटियर के साथ चाय पर चर्चा भी करेंगे। यहाँ पार्टी प्रमुख बीजेपी के बड़े नेताओं के साथ आगामी विधानसभा चुनाव और अगले साल लोकसभा चुनाव को लेकर चर्चा करेंगे। बताया जा रहा है कि इस चर्चा में लोकसभा और विधानसभा प्रभारी शामिल होंगे। जिसने जमीनी स्तर पर पार्टी की स्थित का पता लगाया जाएगा।

RSS के बाद अब इस पार्टी ने भेजा प्रणब को न्यौता, क्या होंगे शामिल?

वहीँ मंगलवार को ही बीजेपी प्रमुख अमित शाह पार्टी के 'संपर्क फॉर समर्थन' अभियानन के तहत सेवा निवृत्त हाईकोर्ट के जस्टिस पीपी नावलेकर और जस्टिस सी एस धर्माधिकारी निवास पर पहुंचकर मुलाक़ात करेंगे। मालूम हो कि राज्य में सीई वर्ष अंत तक विधानसभा चुनाव होने हैं। पहले के अपेक्षा इस बार मुकाबला कड़ा माना जा रहा है। किसान, आत्महत्या, व्यापम घोटाला आदि मुद्दों पर बीजेपी की शिवराज सरकार घिरी हुई है।

यह भी देखें-

loading...