Breaking News
  • कोलकाता में ममता की महारैली में जुटा मोदी विरोधी मोर्चा, केजरीवाल, अखिलेश समेत 20 दिग्गज नेता
  • रूसी तट के पास गैस से भरे 2 पोत में आग लगने से 11 की मौत, 15 भारतीय भी थे सवार
  • जम्मू-कश्मीर: भारी बर्फबारी के बीच सुरक्षाबलों का ऑपरेशन ऑल आउट, 24 घंटे में 5 आतंकी ढेर
  • वाराणसी: 15वे प्रवासी सम्मेलन में पीएम मोदी, लोग पहले कहते थे कि भारत बदल नहीं सकता. हमने इस सोच को ही बदल डाला
  • नेपाल ने लगाया 2000, 500 और 200 रुपए के भारतीय नोटों पर बैन

2 दिन के लिए ‘भारत बंद’, पहल ही दिन भारी बवाल!

नई दिल्ली: जैसा की हमले पहले भी बताया था, आठ और नौ जनवरी को देशभर में विभिन्न ट्रेड यूनियनों की दो दिवसीय देशव्‍यापी हड़ताल होने वाली है। ट्रेड यूनियन की हड़ताल मंगलवार आठ जनवरी को शुरू हुई है जो बुधवार तक जारी रहेगी। हड़ताल का असर बिहार, झारखंड, छत्तीसगढ़, असम, मेघालय, मणिपुर, गोवा, कर्नाटक, केरल, पंजाब, राजस्थान, और हरियाणा में दिख रहा है।

वहीं हड़ताल के पहले दिन पश्चिम बंगाल समेत देश के कई अन्य राज्यों में हिंसक झड़प की भी खबर है। आपको बता दें कि ट्रेड यूनियनों ने केंद्र सरकार पर श्रमिक विरोधी नीतियां अपनाने का आरोप लगाते हुए भारत बंद का ऐलान किया है, जिसे शिक्षण संस्‍थानों और परिवहन यूनियनों का भी सहारा मिला है।

हड़ताल के दौरान पश्चिम बंगाल में कई जगहों पर उग्र प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच झड़प हुई है, जिसमें कई लोग घायल हुए हैं। जानकारी के अनुसार, आसनसोल में सीपीएम और तृणमूल कार्यकर्ता के बीच भीड़ंत हो गई, जबकि बंगाल के ही 24 परगना जिले में चंपाडाली इलाके में एक स्‍कूल बस पर भी पथराव किए जाने की खबर है। वहीं कुछ सरकारी बसों में भी तोड़फोड़ की सूचना है।

तो वहीं रेलकर्मियों ने काला फीता बांधकर इस हड़ताल का समर्थन किया है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, भारत बंद को 10 केंद्रीय श्रम संघों का समर्थन प्राप्त है, जिनमें एटक, इंटक, एचएमएस, सीटू, एआईटीयूसी, टीयूसीसी, सेवा,एआईसीसीटीयू, एलपीएफ और यूटीयूसी शामिल हैं।

इस हड़ताल को बैंक, बीमा, दूरसंचार, स्वास्थ्य, शिक्षा समेत अन्य कई सेक्टर के कर्मचारियों का समर्थन प्राप्त है। बताया जाता है कि हड़ताल में करीब 20 करोड़ से भी अधिक कर्मचारी शामिल हैं।

loading...