Breaking News
  • जम्मू-कश्मीरः शोपियां में अगवा 3 पुलिसकर्मियों के शव मिले, आतंकियों ने पुलिसवाले के भाई को छोड़ा
  • एशिया कप 2018: आज भारत का सामना बांग्लादेश से
  • न्यूयॉर्क: भारत-पाकिस्तान के विदेश मंत्री की मुलाकात, अमेरिका ने बताया शानदार

इस तस्वीर की सच्चाई जानकर आप हैरान रह जाएंगे, देखिए VIDEO

भोपाल: दक्षिण-पश्चिम मानसून के दस्तक देने के साथ ही देश के कई हिस्सों में बारिश हो रही है, हालांकि राजधानी दिल्ली में अब भी मानसून के झमाझम बारिश का इंतजार ही चल रही है। लेकिन महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश और उत्तराखंड समेत कुछ अन्य राज्यों में मुसलाधार बारिश के कारण सड़क पानी से डूब गई है, जनजीवन अस्त-व्यस्त दिख रहा है। इस सभी मामलों के बीच मध्यप्रदेश से एक चौकाने वाली तस्वीर सामने आई है।

दरअसल, यहां राजधानी भोपाल में बारिश के कारण भारी जलभराव की समस्या पैदा हो गई है, जिससे निपटने के लिए यहां के मेयर ने बेहद ही अनोखा कदम उठाया है। इस तस्वीर में आप देख सकते हैं, लबालब पानी से भरे सड़क के बीचोबीच एक शख्स कुर्सी डाल कर बैठे हैं। ये कोई आम शख्स नहीं बल्कि शहर के मेयर आलोक शर्मा हैं जो भोपाल टॉकीज के पास कुर्सी डटा कर टिके है।

‘हिंदू पाकिस्तान’ पर कांग्रेस ने छोड़ा थरूर का हाथ लेकिन अंसारी ने दिया साथ!

खबरों के अमनुसार मेयर पानी के बीच से ही हालत का जायजा ले रहे हैं, और संबंधित अधिकारियों को डांट-फटकार लगाने के साथ-सथा दिशा-निर्देश भी जारी कर रहे हैं। पानी के बीच कुर्सी पर बैठे मेयर आलोक शर्मा ने कहा कि, “ यहां बैठकर शहर के विभिन्न हिस्सों की मौजूदा हालत का जायजा ले रहा हूं’। मेयर ने कहा कि, हालात से निपटने के लिए सभी एजेंसियों को आपसी सामंजस्य से काम करना चाहिए।

उन्होंने कहा कि, मैंने कलेक्टर से इस संबंध में बात कर हालात से रूबरू होने को कहा है ताकि ऐसी समस्याएं फिर से न हो। आपको बता दें कि सड़कों पर जलभराव का बड़ा कारण है शहर के नालों की सफाई नहीं किया जाना। ऐसे में भारी बारिश के कारण पानी की निकासी नहीं हो पाती जिसके कारण सड़के पानी में डूब जाती है और फिर ऐसे नजारे देखने को मिलते हैं।

मुन्ना के लाश ले निकली 80 एनकाउंटर करने वाले पुलिस अधिकारी की गोली!

ऐसी स्थिति सिर्फ मध्यप्रदेश में ही नहीं बल्कि महाराष्ट्र में तो इससे भी बदतर हालात दिखे, वहीं देश के अन्य राज्यों में भी बारिश के मौसम में ऐसे हालत आम बात दिखते हैं। जिसमें साफ तौर पर संबंधित अधिकारी और कर्मचारियों की लापरवाही उजागर होती है। लेकिन सरकार इसके लिए प्रकृति को दोषी मानते हुए अपनी जिम्मेदारियों से पल्ला झाड़ लेते हैं।

loading...