Breaking News
  • जम्मू-कश्मीरः शोपियां में अगवा 3 पुलिसकर्मियों के शव मिले, आतंकियों ने पुलिसवाले के भाई को छोड़ा
  • एशिया कप 2018: आज भारत का सामना बांग्लादेश से
  • न्यूयॉर्क: भारत-पाकिस्तान के विदेश मंत्री की मुलाकात, अमेरिका ने बताया शानदार

हे भगवना! गर्भवती मां और बच्चे दोनों को मार दिया और बिल 18 लाख का...

नई दिल्ली: हमारा देश भारत विकास के चाहे लाख दावे कर ले लेकिन आज भी हमारे बीच ऐसे कई लोग हैं जो ओछी और छोटी मानसिकता के जकड़ने में हैं। दरअसल पहले भी ऐसे कई मामले सामने आ चुके हैं, जिसमें बड़े बड़े अस्पताल मरीज को बचाने में नाकाम हुए, लेकिन इसके बाद भी रोते-बिलखते परिजनों के खून चूसने में कोई कमी नहीं की।

ऐसा ही एक ताजा मामला सामने आया है, देश की राजधानी दिल्ली से सटे फरीदाबाद के एक निजी अस्पताल से, जहां बुखार से पीड़ित गर्भवती महिला को फरीदाबाद के एशियन अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इलाज के दौरान महिला के साथ उसके गर्भ में पल रहे बच्चे की भी मौत हो गई। अपने बहु और बच्चे को खोने के गम से अपनी परिजन निकल भी नई पाए थे कि अस्पताल प्रसाशन ने सारी हदे पार करते हुए परिजनों को 18 लाख रुपये का बिल थमा दिया।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार अस्पताल ने 22 दिन के इलाज के लिए 18 लाख रुपये का बिल  दिया और इतनी मोटी रकम को चुकाने के लिए समय के नाम पर कुछ मिनट या घंटे ही दिए। परिजनों के अनुसार इलाज के दौरान डाक्‍टर न महिला को बचा सके और न पेट में पल रहे 7 महीने के बच्चे को ही, मामले में परिजनों की मांग है कि अस्पताल के खिलाफ जांच की जाए।

अपनी सेना के साथ विदेश जीतने जा रही हैं मिताली राज- जाने पूरा कार्यक्रम...

बताया जाता है कि 20 साल की गर्भवती महिला श्वेता को बुखार आने पड़ उनके पिता ने 13 दिसंबर को एशियन अस्पताल में भर्ती कराया था। पीड़ित परिवार फरीदाबाद के गांव नचौली का रहने वाला है। पीड़ित परिवार के अनुसार अस्पताल में भर्ती करने दौरान तीन चार दिन के इलाज के बाद ही डॉक्टरों ने बताया कि महिला के पेट में बच्चे की मौत हो गई है।

ट्वीटर पर ट्रोल हुई विराट की अनुष्का, वजह है ये रोटी...

परिवार के अनुसार डाक्टरों ने बताया कि मां की जान बचाने के लिए ऑपरेशन करना पड़ेगा और इसके लिए शुरू में साढ़े तीन लाख रुपये जमा कराने को कहा गया, जिसके बाद जमा भी कराया। मृत्क महिला के पिता के अनुसार अस्पताल ने कहा कि जब तक पूरा पैसा जमा नहीं कराते तब तक ऑपरेशन नहीं हो सकता और नहीं किया। मामले में बताय जाता है कि समय पर प्रायाप्त इलाज नहीं मिलने के कारण ही महिला की मौत हो गई।

मोदी सरकार ने लिए ये बड़े फैसले- देश पर पड़ेगा गहरा असर...

loading...