Breaking News
  • संसद के शीतकालीन सत्र का आज दूसरा दिन
  • मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव: 114 सीटों के साथ कांग्रेस पहले नंबर की पार्टी, भाजपा के खाते में 109
  • विधानसभा चुनाव: जीतने वाली दलों को पीएम मोदी ने दी शुभकामनाएं, जनता को धन्यवाद
  • बीजेपी की नीतियों से जनता दुखी है, यही वजह है कि कांग्रेस जीती: मायावती

विजय माल्या ने कहा- मैं पूरा पैसा लौटाना चाहता हूं, कृप्या मेरे इस ऑफर को स्विकार करें

नई दिल्ली: देश के अलग-अलग बैंकों का करीब 9 हजार करोड़ से भी अधिक का कर्ज लेकर भारत से भगोड़ा घोषित हो चुका विजय माल्या लंदन में है, जिसे भारत सरकरा वापस लाना चाहती है। लेकिन सरकार अपने तमाम प्रयासों के बाद भी असल साबित हुई है। इस बीच माल्या ने एक बार फिर से कहा है कि वह कर्ज की राशि लौटाने तो तैयार है।

माल्या ने कहा कि, वह भारतीय बैकों का शत प्रतिशत कर्ज चुकाने को तैयार हैं, लेकिन ब्याज नहीं दे सकते। आपको बता दें कि 10 दिसंबर को माल्या के प्रत्यार्पण पर कोई बड़ा फैसला हो सकता है। इससे पहले सोशल मीडिया पर एक के बाद एक कई ट्वीट कर माल्या ने अपनी बात कही है।

सुषमा के बाद अब उमा ने बढ़ाई भाजपा की टेंशन!

माल्या ने कहा कि, तीन दशकों तक शराब के सबसे बड़े समूह ‘किंगफिशर’ ने भारत में कारोबार किया, इस दौरान करोड़ों की मदद की। किंगफिशर एयरलाइंस ने भी सरकार को काफी भुगतान कर रही थी, लेकिन शानदार एयरलाइंस का दुखद अंत हुआ। इसके बाद भी मैं बैंकों को भुगतान करना चाहता हूं ताकि उन्‍हें कोई घाटा न हो, कृपया ऑफर को स्‍वीकार करें।

गुजरात, राजस्थान समेत पांच राज्यों की महंगी होगी बिजली, कहीं आपका भी र…

माल्या ने कहा कि, नेता और मीडिया मुझे पीएसयू बैंकों का पैसा उड़ा लेने वाला डिफॉल्‍टर बताया, लेकिन ये सब झूठ है। मेरे साथ पक्षपात किया गया, मैंने कर्नाटक हाईकोर्ट में व्यापक निपटान का प्रस्ताव दिया था, इस पर किसी ने आवाज नहीं उठाई, यह दुखद है।

नौसेना प्रमुख ने बताई अपनी ताकत, नेवी डे से पहले दुश्मनों की हवा टाइट!

अपना पक्ष रखते हुए माल्या ने कहा कि, किंगफिशर एयरलाइंस एक शानदार एयरलाइंस थी। इसने ईंधन  की ऊंची दरों का सामना किया। जब क्रूड ऑयल 140 डॉलर प्रति बैरल के अपने उच्‍चतम स्तर पर था तब कंपनी का घाटा बढ़ता गया और बैंकों का पैसा इसी में जाता रहा। लेकिन मैंने बैंकों को 100 फीसदी मूलधन वापसी का ऑफर दिया है, जिसे स्‍वीकार करें।

loading...