Breaking News
  • हैदराबाद: नानकरामगुड़ा इलाके में एक 7 मंजिला इमारत गिरी
  • कोहरे की वजह से रेल और हवाई यातायात बाधित, 56 ट्रेन रद्द, हवाई यात्रा पर असर
  • पृथ्वी की कक्षा में जाने वाले पहले अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री जॉन ग्लेन का निधन
  • जूनियर वर्ल्ड कप हॉकी में भारत का शानदार आगाज, कनाडा को 4-0 से हराया
  • J-K: अनंतनाग में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़

माल्या से परेशान अदालतों ने बदला अपना मिजाज, एक ही दिन में किए दो फैसले!

नई दिल्ली: भारतीय बैंकों का करोड़ों रुपये गबन कर भारत से फरार चल रहे शराब कारोबारी विजय माल्या के खिलाफ गुरुवार को दिल्ली की अदालत ने गैर-जमानती वारंट जारी किया है। माल्या के खिलाफ दो गैर-जमानती वारंट जारी किए गए है।

एक अदालत ने माल्या के खिलाफ फॉरेन एक्सचेंज रेगुलेशन एक्ट के उल्लंघन के मामले में तो एक अन्य अदालत ने 2012 के एक चेक बाउंस के मामले में गैर-जमानती वारंट जारी किया है। पेशी के दौरान अदालत में मौजूद नहीं होने पर चीफ मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट ने यह कदम उठाए है। मामले की अगली सुनवाई के लिए अदालत ने 22 दिसंबर का समय तय किया है।

फॉरेन एक्सचेंज रेगुलेशन एक्ट के उल्लंघन का यह मामला साल 2000 का है, इस दौरान माल्या पर आरोप है कि विदेशों में अपनी कंपनी के प्रोडक्ट के प्रचार कराने के दौरान माल्या ने नियमों का उलंघन किया है।

आपको बता दें कि माल्या बीते दिनों में कई बार अदालत के आदेशों का उलंघन कर चुके है। अदालत में पेश नहीं होने को लेकर माल्या का कहना है कि भारतीय अधिकारियों ने उनका पासपोर्ट निलंबित कर दिया है, इस कारण वह भारत नहीं आसकते है।

तो वहीं चेक बाउंस के मामले में अदालत ने छह अगस्त को गैर जमानती वारंट जारी कर विदेश मंत्रालय को निर्देश दिया था कि वह इस आदेश को माल्या तक पहुंचाए और अदालत में पेश होने के कहे। लेकिन शुक्रवार को भी जब माल्या अदालत में पेश नहीं हुए तो अदालत ने एक नया गैर जमानती वारंट जारी किया है। मामले की अगली  सुनवाई 4 फरवरी 2017 को तय की गई है।