Breaking News
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मध्य प्रदेश के एक दिवसीय यात्रा पर
  • अमेरिका का दक्षिण कोरिया के साथ संयुक्त सैन्याभ्यास रद्द
  • जम्मू-कश्मीर: सेना ने 22 आतंकियों की हिट लिस्ट तैयार की
  • JK: PDP के साथ गठबंधन टूटने के बाद श्यामा प्रसाद मुखर्जी की पुण्यतिथि पर BJP की रैली

Income Tax: बजट में तो मोदी ने तो कोई छूट नहीं दिया- लेकिन एक ‘जुगाड़' है...

नई दिल्ली: केंद्र की मोदी सरकार नें गुरुवार को साल 2018-19 के लिए बजट पेश किया है, लेकिन इस बजट में मिडिल क्लास को सिवाय निराशा के और कुछ नहीं मिला है। लेकिन इसके बाद आपको कुछ ऐसे तरकीब बताने वाले है, जिससे आपको थोड़ी राहत मिल सकती है।

आपको बता दें कि बजट पेश होने पहले जनता और खास कर मिडिल क्लास के लोगों को (नोकरी से जुड़े) को इनकम टैक्स में छूट को लेकर बड़ी उम्मीद थी, लेकिन सरकार ने सभी उम्मीदों पर पानी फेर दिया। बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने करीब दो घंटे तक भाषण दिया, लेकिन इस दौरान जेटली कहीं भी इनकम टैक्स स्लैब में बदलाव का कोई ऐलान नहीं किया।

‘वित्तमंत्री ने देश के किसानों के साथ हाथ की सफाई का काम किया है’

गौर हो कि सरकार ने इनकम टैक्स स्लैब में कोई बदलाव नहीं किया है, जिसके बाद अब भी टैक्स छूट की सीमा 2.5 लाख रुपये ही रहेगी। लेकिन सरकार ने इतना जरूर कहा कि सभी वेतनभोगियों का 40 हजार तक स्टेंडर्ड डिडक्शन होगा और वरिष्ठ नागरिकों को जमा राशि पर ब्याज आय में 50 हजार तक की छूट मिलेगी।

BUDGET2018: संसद में जेटली के ‘प्रवचण’ से बोर हुए मोदी के मंत्री- वायरल हुई फोटो...

बता दें कि सरकार ने स्टैंडर्ड डिडक्शन के रूप में ट्रांसपोर्ट और हेल्थ एलाउएंस को जोड़कर मामूली राहत देने का प्रयास किया है। इससे पहले ट्रांसपोर्ट एलाउएंस के तौर पर सालाना 19,200 रुपये और हेल्थ एलाउएंस के तहत 15 हजार रुपये की खर्च पर कर छूट मिलती थी, जिसे इस बजट में मिलाकर 40 हजार रुपये कर दिया गया है।

कैसे होगा आपको बचत

यहां आपके सामने कुछ जानकारों के अनुसार समझा रहे हैं कि आखिर आप कैसे पैसा बचा सकते हैं। गौर हो कि, अगर आपकी इनकम सालाना 3 लाख रुपये है और आप छूट क्लेम नहीं करते हैं तो आपका कर युक्त आय 50 हजार रुपये होता है, ऐसे में अगर आप इसमें से 40 हजार रुपये का स्टैंडर्ड डिडक्शन का दावा कर सकते हैं तो आपकी कर युक्त आय 10 हजार रुपये बैठेगी, जिस पर 5 फीसदी के हिसाब से 500 रुपये का टैक्स बनता है। यानी यहां आपको 2000 रुपये का फायदा हो सकता है।

BUDGET 2018: राष्ट्रपति-उपराष्ट्रपति के आये अच्छे दिन...

ऐसे में अगर आपकी आय 6 लाख रुपये सालाना है और आप छूट क्लेम नहीं करते हैं तो आपका कर युक्त कुल आय 3.5 लाख रुपये होता है। इसमें से आप 40 हजार रुपये का स्टैंडर्ड डिडक्शन का दावा कर सकते हैं तो आपका कर युक्त कुल आय 3.10 लाख रुपये होता है, जिस पर आपको 32,500 रुपये टैक्स देना पड़ता था, लेकिन अब नए बदलाव के बाद आपको 24500 रुपये का ही टैक्स देना होगा, यानी यहां आपको 8000 रुपये तक का बचत हो सकता है।

ये है मौजूदा टैक्स स्लैब

0-2.5 लाख रुपए तक कोई टैक्स नहीं

2.5-5 लाख रुपए तक 5% टैक्स

5-10 लाख रुपए तक 20% टैक्स

10 लाख रुपए से ऊपर 30% टैक्स

50 लाख से 1 करोड़ तक 10% सरचार्ज

1 करोड़ से ऊपर 15% सरचार्ज

loading...