Breaking News
  • असम में आज दोपहर 1.55 बजे तक कोरोना के 111 नए मामले, कुल संख्या 1672 हुई
  • 69,000 सहायक शिक्षकों की चल रही भर्ती प्रक्रिया पर लखनऊ हाईकोर्ट बेंच ने लगाई रोक
  • IB कर्मचारी अंकित शर्मा मर्डर केस में तारीन हुसैन का हाथ, दिल्ली पुलिस ने दाखिल की चार्जशीट
  • महाराष्ट्र में कोंकण तट से टकराया निसर्ग चक्रवात, 100 KMPH की रफ्तार से चल रही है हवाएं
  • हर प्रवासी मजदूर को 10 हजार की एकमुश्त मदद दे केंद्र : ममता बनर्जी

लॉकडाउन के बीच आरबीआई ने की ये बड़ी कटौती, बैंक नहीं डालेगा दबाव

रिपोर्ट : ए.के.रंजन

नई दिल्ली : देश में जारी लॉकडाउन के बीच मोदी सरकार ने तकरीबन 20 लाख करोड़ आर्थिक पैकेज का ऐलान किया था, जिसके बाद वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने पांचों दिनों तक इस आर्थिक पैकेज को विभिन्न भागों में बांटकर वितरित किया। जिसके बाद आज आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने रेपो रेट में 0.40 फीसदी कटौती का ऐलान किया, जिससे अब रेपो रेट 4.00 फीसदी हो गया।

आपको बता दें कि रेपो रेट वह रेट होता है, जिसपर बैंक कर्जदाताओं को कर्ज देता है। वहीं जब बैंक आरबीआई से ऋण लेता है उसे रिवर्स रेपो रेट कहते है, जिस पर बैंक अपने कर्ज की अदायगी करता है। हालांकि आरबीआई के इस फैसले से कर्जदाताओं को काफी राहत मिलेगा। इस कटौती के बाद आरबीआई की रेपो रेट 4.40 फीसदी से घटकर 4 फीसदी हो गई है। इसके साथ ही कर्ज की किस्‍त देने पर 3 महीने की अतिरिक्‍त छूट दी गई है। मतलब कि अगर आप अगले 3 महीने तक अपने लोन की ईएमआई नहीं देते हैं तो बैंक आप पर कोई दबाव नहीं डालेगा।

आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने बताया कि पिछले तीन दिन में एमपीसी ने घरेलू और वैश्विक माहौल की समीक्षा की। गौरतलब हैं कि लॉकडाउन में यह दूसरी बार है जब आरबीआई ने रेपो रेट पर कैंची चलाई है। इससे पहले 27 मार्च को आरबीआई गवर्नर ने 0.75 फीसदी कटौती का ऐलान किया था। इससे जाहिर सी बात है कि आपकी ईएमआई भी पहले के मुकाबले कम हो गई है।

आपको बता दें कि आरबीआई के इस ऐलान से अब आरबीआई के नए 3 महीनों के लिए मोहलत के ऐलान के बाद ग्राहकों को कुल 6 महीने की छूट मिल जाएगी। मतलब ये कि आप कुल 6 महीने तक लोन की ईएमआई नहीं देना चाहते हैं तो बैंकों आप पर कोई दबाव नहीं बनायेगा। जिससे आपका क्रेडिट स्‍कोर भी दुरुस्‍त रहेगा और बैंक की नजर में आप डिफॉल्‍टर नहीं होंगे। किंतु, इसके लिए आपको अतिरिक्‍त ब्‍याज देनी पड़ेगी।

loading...