Breaking News
  • MSG कंपनी के सीईओ सीपी अरोड़ा गिरफ्तार, हनीप्रीत को फरार करने का आरोप
  • नोटबंदी की बदौलत 2 लाख से ज्यादा फ़र्ज़ी कंपनियां हुई बंद: पीएम
  • राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस के अवसर पर अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान का लोकार्पण
  • स्पेन,पुर्तगाल में लगी आग से 35 लोग मारे गए, स्थिति अभी भी भयावह

आरबीआई कर सकती है ब्याज दरों में कटौती!

नई दिल्ली: एसोचैम के आग्रह के बाद आरबीआई ने अपनी व्याज दरों में कटौती का मन बना लिया है। बुधवार को होने वाली द्वैमासिक मौद्रिक समीक्षा बैठक में ब्याज दरों को लेकर कोई बड़ा फैसला लिया जा सकता है। इस बैठक में आरबीआई गवर्नर उर्जित पटेल भी हिस्सा लेंगे। जहाँ ब्याज दरों में कटौती की जा सकती है।

मौजूदा दौर में महंगाई दर के पांच वर्षो के निचले स्तर तक जाने और औद्योगिक उत्पादन में गिरावट के बाद एसोचैम ने आरबीआई गवर्नर उर्जित पटेल को पत्र लिखकर आग्रह किया हुआ है कि बुधवार को होने जा रही आरबीआई की द्वैमासिक समीक्षा बैठक में ब्याज दरों में कटौती करें। यहाँ भारतीय रिजर्व बैंक भवन में बुधवार को आरबीआई की द्वैमासिक बैठक होने वाली है। इस बैठक में आरबीआई गवर्नर उर्जित पटेल भी मौजूद रहेंगे। इस बैठक से लोगों को थोड़ी राहत मिलने की संभावना है माना जा रहा है कि द्वैमासिक मौद्रिक समीक्षा बैठक में ब्याज दरों में कटौती की जा सकती है।

इससे पहले सात जून को हुई वित्तीय वर्ष 2017 की दूसरी द्वैमासिक मौद्रिक समीक्षा बैठक में आरबीआई ने ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया था। जहाँ एक ओर  जून महीने में खुदरा महंगाई दर 1.54 फीसदी के निचले स्तर पर रही है जबकि मई महीने का औद्योगिक उत्पादन आंकड़ा 1.7 फीसदी रहा है। ऐसे में एसोचैम ने ब्याज दरों में कटौती के लिए आरबीआई को पत्र लिखकर इस संबंध में आग्रह किया है। एसोचैम की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि महंगाई दर के पांच वर्षो के निचले स्तर तक जाने और औद्योगिक उत्पादन में गिरावट आने को लेकर उनका मानना है कि इस बैठक में ब्याज दरों में 25 आधार अंकों की कटौती की जाने चाहिए। पिछले माह भी किसी तरह की ब्याज दरों में कोई कटौती नहीं हुई थी। 

loading...