Breaking News
  • कोलकाता में ममता की महारैली में जुटा मोदी विरोधी मोर्चा, केजरीवाल, अखिलेश समेत 20 दिग्गज नेता
  • रूसी तट के पास गैस से भरे 2 पोत में आग लगने से 11 की मौत, 15 भारतीय भी थे सवार
  • जम्मू-कश्मीर: भारी बर्फबारी के बीच सुरक्षाबलों का ऑपरेशन ऑल आउट, 24 घंटे में 5 आतंकी ढेर
  • वाराणसी: 15वे प्रवासी सम्मेलन में पीएम मोदी, लोग पहले कहते थे कि भारत बदल नहीं सकता. हमने इस सोच को ही बदल डाला
  • नेपाल ने लगाया 2000, 500 और 200 रुपए के भारतीय नोटों पर बैन

पारदर्शिता का प्रबल नमूना है जीएसटी, नहीं समझे तो यहां समझिए, पीएम मोदी ने समझाया

नई दिल्ली: साल 2014 के लोकसभा में ऐतिहासिक बहुमत के साथ केंद्र की सत्ता पर काबिज हुई भाजपा की नेतृत्व वाली एनडीए सरकार के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पूरी उम्मीद है साल 2019 लोकसभा चुनाव के बाद भी जनता एक और बार देश की कमान उनके हाथों में सौपेगी। हालांकि इससे पहले विपक्ष एकजुटता बीजेपी के लिए बड़ी संकट दिख रही है। जिससे निपटने के लिए मोदी सरकार भी नए-नए दाव खेल रही है।

इस क्रम मे खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी जनता के बीच जाकर सरकारी योजनाओं का बखान कर रहे हैं। इस बीच पीएम मोदी ने बुधवार को उत्तर प्रदेश के आगरा में एक सभा को संबोधित करते हुए विरोधी दलों पर जोरदार हमला बोलते हुए कहा कि, जो लोग एक दूसरे का मुंह देखने के लिए तैयार नहीं होते थे, वो देश के चौकीदार को हटाने के लिए एक हो रहें है।

इसके साथ ही पीएम ने इस दौरान देश की नई कर व्यवस्था जीएसटी को लेकर भी जनता के बीच बसे उलझलन को साफ करने का काम किया है। उन्होंने कहा कि, जीएसटी व्यापारी और ग्राहक के आपसी विश्वास और भरोसे को मजबूत करने की ही व्यवस्था है।

उन्होंने कहा कि, जीएसटी कोई अलग से लगाया गया टैक्स नहीं है बल्कि पहले जो आप सभी सामान पर या सेवाओं पर दर्जनों टैक्स देते थे, उनको समेटकर कम कर दिया गया है। पीएम ने कहा, पहले बहुत सी चीजों पर 30% से भी अधिक टैक्स लगते थे, जो कहीं दिखते नहीं थे। अब जितना टैक्स आप देते हैं उतना दिखता भी है, यही पारदर्शिता है।

साथ ही पीएम ने कहा कि, अब सामान्य मानवी के काम आने वाला ज्यादातर सामान यानि करीब-करीब 99 प्रतिशत सामान पर जीएसटी 18 प्रतिशत से भी कम है। उन्होंने कहा कि, जीएसटी को व्यापारियों और उपभोक्ताओं के लिए और सरल करने की प्रक्रिया निरंतर चल रही है।

loading...