Breaking News
  • नगालैंड दौरे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, 27 फरवरी को होने हैं चुनाव
  • जम्मू-कश्मीर: पाकिस्तान ने फिर किया संघर्ष विराम का उल्लंघन, सेना दे रही है मुंहतोड़ जवाब
  • केजरीवाल सरकार का फैसला, दिल्ली में राशन के लिए आधार कार्ड नहीं होगा अनिवार्य
  • पीएनबी घोटाला: विपुल अंबानी 5 मार्च तक सीबीआई हिरासत में

NPA पर भड़के मोदी- ‘जिन्होंने देश लूटा, उसे लौटना ही होगा- मैं पीछे हटने वाला नहीं हूं’

नई दिल्ली: केंद्र की सत्ता पर काबिज बीजेपी सरकार में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को संसद के बजट सत्र के दौरान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर हुई चर्चा का जवाब देते हुए कांग्रेस पार्टी पर बड़ा हमला बोला है। इस दौरान पीएम ने बढ़ते NPA यानी नॉन- परफॉर्मिंग असेट के मसले पर भी कांग्रेस पर जबरदस्त प्रहार किया है।

पीएम मोदी ने कहा कि, ये आपके पाप हैं जो सामने हैं, हमारी सरकर ने एक भी ऐसा लोन नहीं दिया जिस पर NPA की नौबत आई। पीएम ने कहा कि आखिर NPA का मामला है क्या? देश को पता चलना चाहिए कि इसके पीछे पुरानी सरकार का कारोबार है, और इसके लिए शत प्रतिशत पुरानी सरकार ही जिम्मेदार है।

video में सुनिए पीएम की चेतावनी!

पीएम ने यह कहा कि, कांग्रेस के समय 52 लाख करोड़ रुपये का NPA था, NPA के लिए कांग्रेस जिम्मेदार और आज जो आंकड़ा बढ़ रहा है वो आपके (कांग्रेस) पाप पर लग रहा ब्याज है। देश आपको इस पाप के लिए माफ नहीं करेगा। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि जिन्होंने देश को लूटा है, उनको लौटना ही पड़ेगा, मैं इस पर पीछे हटने वाला नहीं हूं।

‘अगर भारत के पहले PM पटेल होते तो कश्मीर का हिस्सा POK नहीं होता’

तो वहीं पीएम मोदी ने आयुष्मान भारत योजना को लेकर कहा कि यह योजना किसी दल के लिए नहीं देश के लिए है और अगर कांग्रेस को ऐसा लगता है कि इसमें कुछ कमी है तो वो सामने आए, मैं खुद समय दूंगा। आपको बता दें कि NPA एक बैंकिंग शब्द है, जिसे समझ पाना आम जनता के लिए थोड़ा मुश्किल हो सकती है, लेकिन इस हम आपको सीधे शब्दों में बताने का प्रयास कर रहे हैं।

संसद में बोले PM: आपके पापों की सजा आज पूरा देश भुगत रहा है...

दरअसल, NPA का अंग्रेजी मतलब होता है, नॉन परफॉर्मिंग असेट यानी की गैर निष्पादित संपत्ति, जोकि वित्तीय संस्थानों द्वारा इस्तेमाल किया जाने वाला वर्गीकरण है जिसका सीधा सम्बन्ध कर्ज, ऋण या लोन न चुकाने से है। इसे ऐसे समझिए जैसे कि, जब कोई व्यक्ति बैंक से कर्ज लेता है और वह 90 दिनों तक ब्याज या मूलधन का भुगतान करने में असफल होता है तो उस व्यक्ति को दिया गया कर्ज नॉन– परफॉर्मिंग असेट माना जाता है!

loading...