Breaking News
  • चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने सुप्रीम कोर्ट में आज चार नए जजों को दिलाई शपथ
  • ह्यूस्टन में हाउडी मोदी कार्यक्रम की सफलता पर भड़का पाकिस्तान
  • आर्मी चीफ बिपिन रावत का बयान, पाकिस्तान ने बालाकोट में आतंकी कैंपों को फिर से सक्रिय कर दिया है
  • गृह मंत्री ने कहा कि कहा कि 2021 की जनगणना में मोबाइल एप का प्रयोग होगा

बजट में पेट्रोल-डीजल पर हुई ऐसी घोषणा, जनता भुगतेगी अंजाम

नई दिल्ली: देश की पहली पूर्वकालिन महिला वित्त मंत्री निर्मना सितारमण ने शुक्रवार को मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला आम बजट पेश किया। बजट से देशवासियों को बड़ी उम्मीदें थी, जिनमें से कुछ उम्मीदों पर सरकार खरी उतरी है तो कुछ घोषाणाएं जनता की जेब ढिली करती दिख रही है। दरअसल, संसद में बजट भाषण पढ़ते हुए वित्त मंत्री ने फ्यूल पर 2 रुपये प्रति लीटर की दर से एक्साइज ड्यूटी और रोड इन्फ्रास्ट्रक्चर सेस बढ़ाने की घोषणा की है।

सरकार के इस फैसले से सरकार की आय में 28,000 करोड़ रुपये की वृद्धि होगी। वहीं  टैक्स बढ़ाने के ऐलान के बाद अब पेट्रोल की कीमत 2.5 रुपये और डीजल के दाम 2.3 रुपये प्रति लीटर बढ़ जाएंगे। आपको बता दें कि फ्यूल के बेस प्राइस पर केंद्र की एक्साइज ड्यूटी और सेस लगने के बाद VAT लगाया दाता है। इस वजह से पेट्रोल में 2.5 और डीजल में 2.3 रुपये प्रति लीटर की वृद्धि संभव है।

साथ ही वित्त मंत्री ने कच्चे तेल के आयात पर एक रुपये प्रति टन के हिसाब से आयात शुल्क भी लगाने की घोषाणा की है। एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत साल में 22 करोड़ टन कच्चा तेल आयात करता है। इस हिसाब से सरकार को करीब 22 करोड़ रुपये का फायदा होगा। जानकारी के लिए बता दें कि मौजूदा सरकार कच्चे तेल पर कोई कस्टम ड्यूटी चार्च नहीं लगाती है। इसपर प्रति टन के हिसाब से 50 रुपये NCCD यानी नेशनल कैलेमिटी कॉन्टिनेंट ड्यूटी लगता है।

लेकिन वित्त मंत्री निर्माला सीतारमण ने बजट भाषण में बताया कि, कच्चे तेल की कीमतों में कमी आई है। इस वजह सेस और एक्साइज ड्यूटी की समीक्षा की जा सकती है। पेट्रोल और डीजल पर प्रति लीटर दो रुपये की दर से एक्साइज ड्यूटी और सेस बढ़ाया जाएगा। फिलहाल पेट्रोल पर कुल 17.98 रुपये की कुल एक्साइज ड्यूटी लगती है, जबकि डीजल पर कुल 13.83 रुपये प्रति लीटर की दर से एक्साइज ड्यूटी लगाया जाता है। इसके अलावा अलग-अलग राज्यों की सरकारें अपने हिसाब से VAT भी लगता है।

ऐसे में अगर देश की राजधानी दिल्ली की बात करें तो यहां की सरकार 27 फीसदी वैट लगता है। जबकि मुंबई में 26 फीसदी और 7.12 रुपये अतिरिक्त टैक्स लगाया जाता है। जिसके कारण मुंबई में तेल की कीमत सबसे अधिक होती है। चलते-चलते यह भी बता दें कि बजट की घोषाणा वाले दिन शुक्रवार को दिल्ली में पेट्रोल की कीमत 70.51 रुपये और मुंबई में 76.15 रुपये रही, जबकि दिल्ली में डीजल 64.33 रुपये और मुंबई में 67.40 रुपये प्रति लीटर की दर से मिल रहा था।

loading...