Breaking News
  • कोलकाता में ममता की महारैली में जुटा मोदी विरोधी मोर्चा, केजरीवाल, अखिलेश समेत 20 दिग्गज नेता
  • रूसी तट के पास गैस से भरे 2 पोत में आग लगने से 11 की मौत, 15 भारतीय भी थे सवार
  • जम्मू-कश्मीर: भारी बर्फबारी के बीच सुरक्षाबलों का ऑपरेशन ऑल आउट, 24 घंटे में 5 आतंकी ढेर
  • वाराणसी: 15वे प्रवासी सम्मेलन में पीएम मोदी, लोग पहले कहते थे कि भारत बदल नहीं सकता. हमने इस सोच को ही बदल डाला
  • नेपाल ने लगाया 2000, 500 और 200 रुपए के भारतीय नोटों पर बैन

8 और 9 जनवरी को भारत में क्यो हो रहा है देशव्यापी हड़ताड़

नई दिल्ली:  सरकार पर एंटी वर्कर्स पॉलिसी का आरोप लाते हुए आठ और नौ जनवरी को 10 सेंट्रल ट्रेड यूनियनों ने देशव्यापी हड़ताल का ऐलान किया है। इस हड़ताल में दो बैंक यूनियन से भी समर्थन प्राप्त है। जानकारी के अनुसार, ऑल इंडिया बैंक इंम्प्लाइज एसोसिएशन और बैंक इंम्प्लाइज फेडरेशन ऑफ इंडिया ने इंडियन बैंक्स एसोसिएशन को देशव्यापी हड़ताल की जानकारी दे दी है।

आपको बता दे कि इसके पहले 26 दिसंबर 2018 को भी नौ बैंक यूनियंस या अलग अलग बैंकों के लगभग एक लाख कर्मचारियों ने हड़ताल किया था। ये सभी हड़ताली कर्मचारी बैंक ऑफ बड़ौदा में देना बैंक और विजया बैंक के विलय का विरोध कर रहे थे। हालांकि इसके बाद भी हाल में सरकार ने इसकी मंजूरी दे दी है।

जिसके बाद केंद्र सरकार पर ‘एंटी पीपल’ पॉलिसी का आरोप लगाते हुए 10 सेंट्रल ट्रेड यूनियन INTUC, AITUC, HMS, CITU, AIUTUC, AICCTU, UTUC, TUCC, LPF और SEWA के साथ AIBEA और IBA ने भी अब आठ और नौ जनवरी 2019 को हड़ताल का ऐलान किया है। जिसका असर देश के कुछ बैंकों की शाखाओं पर भी पड़ सकता है। बताया जाता है कि हड़ताली कर्मचारियों ने सरकार के सामने अपनी 12 मांगे रखी हैं।

loading...