Breaking News
  • लोकसभा चुनाव 2019 के लिए भाजपा ने जारी किए 7 और उम्मीदवारों के नाम, दिल्ली से चार
  • श्रीलंका: आतंकियों ने चर्च सहित 8 जगहों को बनाया निशाना, कई विदेशी नागरिक भी मारे गए
  • श्रीलंका: सिलसिलेवार धमाकों में मरने वालों की संख्या 290, 400 ज्यादा लोग घायल
  • कोलकाता में बोले अमित शाह- बीजेपी की रैलियों को ममता सरकार इजाजत नहीं दे रही है

राहत के साथ आया नया वित्त वर्ष- एक अप्रैल से देश में हो रहे हैं ये बड़े बदलाव

नई दिल्ली: एक अप्रैल से नये वित्त वर्ष के आरंभ के सथ ही देश में कई अहम बदलाव हो रहे हैं। जिसका सीधा असर आम जनों के जीवन पर भी पड़ेगा। इनमें से कुछ बदलाव जनता के लिए बड़ी राहत लेकर आई है, जबकि कुछ ऐसे भी जो कुछ लोगों की परेशानियां बढ़ा सकती हैं। आइए एक नजर उन बदलाव पर डालते हैं जो आज एक अप्रैल 2019 से अमल में आ रहे हैं। इसेस पहले बता दें कि ये बदलाव आम बजट से जुड़ी हैं, जिसका ऐलान सरकार ने बजट पेश करते हुए किया था।

आयकर दायरे में बड़ी छूट

आपको बता दें कि यह कामगारों और खासकर वेतनभोगी वर्ग के लिए सबसे बड़ी खुशखरी है। सरकारी नियमों के अनुसार अब पांच लाख तक की आय कर रहित होगी। यानी अगर आप सालाना पांच लाख रुपये कमाते हैं तो आपको आयकर (इनकम टैक्स) नहीं देना होगा। वहीं समझदारी के साथ बचत करने वाले करदाता आठ से साढ़े आठ लाख रुपये तक के आय पर भी कर देने से बच सकते हैं। इसके अलावा बैंक और डाकघरों में जमा पर मिल रहा 40 हजार रुपये तक का ब्याज भी कर रहित होगा।

घर होगा सस्ता

गौर हो कि देश में लागू नई कर प्रणाली जीएसटी परिषद ने पिछली बैठक में निर्माणाधीन घरों पर जीएसटी में कटौती की घोषणा की थी। परिषद ने निर्माणाधीन घरों पर जीएसटी की दर एक प्रतिशत की है, जबकि अन्य घरों को पांच प्रतिशत के दायरे में रखा गया है। इसके अलावा अफोर्डेबल हाउसिंग के तहत घर की कीमत की सीमा 30 लाख से बढ़ाकर 45 लाख कर दी गई है। जिसके कारण शहर में छोटे घर या फ्लैट खरीदना सस्ता हो गया है।

बैंक लोन पर कब ब्याज

दरअसल, एक अप्रैल से बैंक एमसीएलआर की जगह आरबीआई रेपो रेट के तहत कर्ज देंगे। यानी जब भी आरबीआई रेपो रेट में कटौती करेगी, बैंक से लिए कर्ज पर ब्याज में भी कटौती होगी और जब रेपो रेट में बढ़ोतरी होगी तब ब्याज में भी बढोतरी होगी। सरकार के इस फैसले के कारण हर तरह के कर्ज पर राहत की उम्मीद दिख रही है।

अन्य बदलाव

पैन से आधार लिंक कराने की सम-सीमा पहले 31 मार्च तक थी, जिसे अब छह महीने के लिए बढ़ा दिया गया है।

अब कंपोजीशन स्कीम की सीमा 1.5 करोड़ टर्नओवर तक होगी, जीएसटी में अब सालाना 40 लाख टर्नओवर वालों के लिए ही रजिट्रेशन अनिवार्य होगा।

रेलवे में नहीं सुविधा- अगर किसी यात्री को दो ट्रेन से यात्रा करना है तो उसके नाम पर संयुक्त पीएनआर नंबर जारी किया जाएगा, यानी दो टिकट लेने की जरूरत नहीं होगी। ऐसे में अगर आपकी दूसरी ट्रेन छूट जाती है तो आपके टिकट का पूरा पैसा वापस किया जाएगा।

अब ईपीएफओ का यूनिवर्सल अकाउंट नंबर (यूएन) और अधिक प्रभावी होगा, अगर आप की नौकरी का संस्थान बदलते हैं तो आपका पीएफ खाता यूएन नंबर की मदद से अपने आप ट्रांसफर होगा।

आज से जीवन बीमा लेना भी सस्ता हो गया है। इस नये नियम का फायदा 20 से 50 साल तक के लोगों को मिस सकेगा।

आज से लागू हो रहे नियम के तहत वाहन निर्माता कंपनियों के लिए हाई-सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट देना अनिवार्य होगा। नियमों के अनुसार अब बिना नंबर प्लेट के कोई वाहन फैक्ट्री से बाहर नहीं निकल सकेंगे।

बढ़ेगी परेशानी

आज से प्राकृतिक गैस की कीमत में 10 प्रतिशत की बढोतरी की खबर है, जिसके कारण सीएनजी और पीएनजी की कीमत बड़ सकती है।

टाट मोटर्स, टोयटा, मारुति सुजुकी इंडिया, जैगुआर लैंड रोवर व कुछ अन्य कंपनियों की कारें महंगी होगी।

हाल ही मं ट्राई द्वारा लागू नियमों के अनुसार, अगर 31 मार्च तक आप अपने पसंद के चैनलों की जानकारी अपने डीटीएच ऑपरेटर को नहीं दी है तो आपका टीवी ब्लैक होगा, यानी उसपर कोई चैनल नहीं दिखेंगे।

अगर आपके पास लिमिटेड कंपनियों के शेयर फिजिकल फॉर्म में हैं तो आप उन्हें न तो ट्रांसफर कर सकते हैं और न ही बेच सकेंगे।

loading...