Breaking News
  • लोकसभा चुनाव 2019 के लिए भाजपा ने जारी किए 7 और उम्मीदवारों के नाम, दिल्ली से चार
  • श्रीलंका: आतंकियों ने चर्च सहित 8 जगहों को बनाया निशाना, कई विदेशी नागरिक भी मारे गए
  • श्रीलंका: सिलसिलेवार धमाकों में मरने वालों की संख्या 290, 400 ज्यादा लोग घायल
  • कोलकाता में बोले अमित शाह- बीजेपी की रैलियों को ममता सरकार इजाजत नहीं दे रही है

खुशखबरी: लोन लेकर घर और कार खरीदना हुआ सस्ता

नई दिल्ली: भारतीय स्टेट बैंक समेत देश के लगभग सभी बैंकों ने ब्याज दरों में कटौती का ऐलान किया है। बैंकों के इस फैसले के बद होम लोन और कार लोन पर ब्‍याज दरें कम हो गई है, जिसके कारण अब घर के लिए या कार के लिए लोन लेना सस्ता साबित हो सकता है। अगल-अलग बैंकों ने ब्याज दरों में अलग-अलग कटौती की घोषणा की है, जिसे आप यहां समझ सकते हैं।

देश की बड़ी बैंक भारतीय स्टेट बैंक यानी एसबीआई ने ब्याज दरों में 0.05 फीसदी की कटौती की है। वहीं संशोधित दर वाले 30 लाख रुपये तक के होम लोन पर ब्याज दर में 0.10 फीसदी की कटौती की गई है। बैंक के इस फैसले के बाद अब 30 लाख से कम के होम लोन पर 8.60 से 8.90 फीसदी ब्याज दर होगी।

वहीं इंडियन ओवरसीज बैंक ने एसबीआई से पहले ही एक साल के लोन पर मार्जिनल कॉस्ट ऑफ लेंडिंग रेट यानी एमसीएलआर को 8.70 फीसदी से घटाकर 8.65 फीसदी करने किए जाने की घोषणा की है। वहीं दो और तीन साल के कर्ज पर ब्‍याज दर क्रमश: 8.75 फीसदी और 8.85 फीसदी होगी।

बीते दिनों आईसीआईसीआई बैंक ने एमसीएलआर दरों में 5 बेस प्वाइंट की कटौती की है। आईसीआईसीआई बैंक एक रात और एक महीने की अवधि के लिए एमसीएलआर को घटाकर 8.5 फीसदी कर दिया है। वहीं दो महीने की अवधि के लिए एमसीएलआर 8.55 फीसदी है, जबकि  छह महीने की अवधि के लिए 8.7 फीसदी और एक साल के लिए एमसीएलआर को 8.75 फीसदी है।

वहीं एचडीएफसी बैंक ने मार्जिनल कॉस्ट ऑफ लेंडिंग रेट एमसीएलआर में 0.10 फीसदी की कटौती की है। बैंक ने एक साल के कर्ज पर एमसीएलआर 8.75 फीसदी से घटाकर 8.65 फीसदी किया है। जबकि छह महीने के लिए 8.45 फीसदी, तीन महीने के लिए 8.35 फीसदी और एक महीने के एमसीएलआर को घटाकर 8.30 फीसदी किया है।

जबकि कोटक महिंद्रा बैंक ने भी एमसीएलआर में 10 बेस प्वाइंट की कटौती की घोषणा की है। बैंक ने एक साल की अवधि के लिए एमसीएलआर 8.9 फीसदी की है, जबकि दो और पांच साल के लिए एमसीएलआर में 5 बेस प्वाइंट की कटौती कर 9 फीसदी किया गया है।

आपको बता दें कि एमसीएलआर यानी मार्जिनल कॉस्ट ऑफ लेंडिंग रेट, वो दर है जिसके तहत लागत के हिसाब से बैंक लोन की दर तय करता है। इसके बढ़ने से आपके बैंक से लिए गए होम और ऑटो लोन महंगे हो जाते हैं, जबकि एमसीएलआर के कम होने के क्रम में ब्‍याज दर में कमी मानी जाती है।

loading...