Breaking News
  • जम्मू-कश्मी: सोपोर में आतंकियों और सुरक्षा बलों के बीच मुठभेड़, कई इलाकों में मोबाइल और इंटरनेट सेवा बंद
  • सपा-बसपा सरकारों के पास गरीबी को हटाने के लिए कोई एजेंडा नहीं था: सीएम योगी
  • सर्जिकल स्ट्राइक के दो साल पूरे होने पर देश मनाएगा पराक्रम पर्व
  • आज सुबह 9:17 बजे असम की बारपेटा में 4.7 तीव्रता से भूकंप के झटके

मोदी सरकार की जनता पर दोहरी मार: डीजल पेट्रोल के साथ थोक महंगाई दर में बड़ा इजाफा

नई दिल्ली: देश के नरेंद्र मोदी सरकार दोनों के लिए ही बहुत बुरी खबर सामने आ रही है। वाणिज्य मंत्रालय द्वारा जारी किये गये आंकड़ों में देश की थोक महंगाई दर से में बड़ा इजाफा हुआ है। वहीँ आंकड़े सामने आने के बाद केंद्र सरकार की महंगाई पर कोई भी लगाम लगती नहीं दिखती रही है।

बतादें कि देश के लिए आज दो बुरी खबरें हैं। पहले तो नरेंद्र मोदी सरकार का महंगाई पर कोई भी काबू नहीं रहा है। सोमवार को वाणिज्य मंत्रालय द्वारा जारी किये गये आंकड़े में देश की जनता को बड़ा झटका लगा है। देश में थोक मूल्य सूचकांक (डब्ल्यूपीआई) पर आधारित महंगाई दर को एलकार जारी किये गये आंकड़ों में अप्रैल 2018 में थोक महंगाई दर 3.18 फीसदी रही।

पश्चिम बंगाल में लोकत्रंत का ‘रेप, लूट लिए गये बैलेट बॉक्स, हिंसा में सात की मौत

जबकि पिछले मार्च 2018 में यह दर 2.47 फीसदी थी। वाणिज्य मंत्रालय द्वारा जारी किये गये आंकडें के अनुसार प्राथमिक वस्तु समूहों की खाद्य वस्तुओं एवं विनिर्मित उत्पाद समूहों के खाद्य उत्पादों के मिले-जुले थोक मूल्य सूचकांक आधारित महंगाई दर मार्च महीने में 0.07 प्रतिशत से बढ़कर अप्रैल में 0.67 प्रतिशत हो गया। साथ ही पिछले साल अप्रैल के माह में महंगाई दर के अनुसार यह कम है। साल 2017 के अप्रैल में महंगाई दर 3.85 थी। जोकि अब 3.18 फीसद है।

चुनाव खत्म होते ही जनता पर सरकार बोझ, पेट्रोल-डीजल की कीमत में लगी आग

थोक महंगाई दर में बढ़ोत्तरी से आम नागरिकों को किसे भी हाल में राहत मिलती नहीं दिख रही है। वहीँ एक ओर थोक महंगाई दर में वर्द्धि दर्ज की गयी है। वहीँ कर्नाटक विधानसभा चुनाव के खत्म होते ही डीजल और पेट्रोलो के दामों में भी बढ़ोत्तरी शुरू हो गयी है। पिछले 56 महीनें पेट्रोल के दाम सबसे उच्चतम स्तर पर पहुँच गये हैं।

यह भी देखें-

loading...