Breaking News
  • छत्तीसगढ विधानसभा चुनाव के दूसरे और आखिरी चरण के लिए मतदान
  • CBI विवाद: SC में सीवीसी की रिपोर्ट और निदेशक वर्मा के जवाब की सुनवाई 29 नवंबर तक टाली
  • महाराष्ट्र: पुलगांव में सेना के हथियार डिपो में धमाका, 4 की मौत
  • जम्मू-कश्मीर: शोपियां में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़, 4 आतंकी ढेर, एक जवान शहीद, दो घायल

RBI और सरकार के संबंधों में और बढ़ी खटास, इस्तीफा दे सकते हैं उर्जित पटेल

नई दिल्ली : आरबीआई और केंद्र सरकार के बीच जारी विवाद अब थमने का नाम नहीं लें रहा हैं। आपको बता दें कि मंगलवार को वित्त मंत्री अरूण जेटली ने देश में बैंक एनपीए का ठीकरा आरबीआई के सिर फोड़ा है, वहीं अब केन्द्रीय रिजर्व बैंक गवर्नर उर्जित पटेल के पास मौजूद विकल्पों में इस्तीफा देना भी शामिल है। एक प्रमुख बिजनेस चैनल के अनुसार मौजूदा परिस्थिति में उर्जित पटेल के इस्तीफा की संभावना बनी हुई है।

CBI के बाद RBI पर भी घिरतें नज़र आई सरकार, लगाया ये गंभीर आरोप

केन्द्र सरकार और आरबीआई में सूत्रों के आधार पर रिपोर्ट ने दावा किया है कि आरबीआई और केन्द्र सरकार के बीच काफी अंतर पैदा हो चुके हैं। इस अंतर को अब भरा जाना अब बहुत ही मुश्किल है। ऐसी स्थिति में रिजर्व बैंक के आला अधिकारियों का दावा हैं कि केन्द्रीय बैंक की स्वायत्तता को ध्यान में रखते हुए उसके सामने सभी विकल्प खुले हुए है।

सावधान : बिना OTP निकले SBI क्रेडिट कार्ड से हजारों रूपये, बरतें ये सावधानी वरना ...

दरअसल बात यह है कि केन्द्रीय बैंक और केन्द्र सरकार के रिश्तों में आई खटास को बीते हफ्ते आरबीआई के डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य ने जगजाहिर किया। आचार्य ने कहा कि केन्द्रीय बैंक की स्वायत्तता पर हमला देश के लिए बेहद खतरनाक हो सकता है। आचार्य के इस बयान के तुरंत बाद केन्द्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने देश में बैंकों के सामने खड़ी एनपीए की समस्या के लिए केन्द्रीय बैंक को जिम्मेदार ठहराया। जेटली ने दावा किया कि 2008 से 2014 के बीच देश के बैंकों ने बड़े स्तर पर कर्ज देने का काम किया। वहीं जेटली ने आरोप लगाया कि इस दौरान रिजर्व बैंक ने अपनी भूमिका से उलट इतने बड़े स्तर पर दिए जा रहे कर्ज की प्रक्रिया की अनदेखी की।

रेलवे की अनोखी स्कीम : अब वेटिंग टिकट होने पर भी मिलेगी कन्फर्म सीट, जानिए कैसे

loading...