Breaking News
  • छत्तीसगढ़ में पहले चरण के मतदान में 3:45 बजे तक 49.12 फीसदी वोटिंग
  • पीएम मोदी ने वाराणसी-हल्दिया राष्ट्रीय जलमार्ग देश को समर्पित किया
  • अफगानिस्तानः राजधानी काबुल में बड़ा धमाका, कई लोगों के मारे जाने की आशंका

GST के बाद एक और GST लाने की फिराक में केंद्र सरकार

नई दिल्ली : एक और जीएसटी। जी हां केंद्र सरकार अब बहुत ही जल्द एक और जीएसटी लाने जा रही है। लेकिन आप घबराइये मत केंद्र सरकार यह जीएसटी किसी वस्तु को लेकर नहीं बल्कि स्टैंप ड्यूटी पर लाने वाली है। आपको बता दे कि यह कदम पिछले साल टैक्स सिस्टम को लेकर किए गए बड़े बदलाव GST की तरह है, जिसने राज्यों और केंद्रों के दर्जनों टैक्सों को समान कर दिया। नए सुधार के तहत सरकार पूरे देश में स्टैंप ड्यूटी को एक समान करना चाहती है। हितधारकों ने सौ साल पुराने कानून के लिए बदलाव भी तैयार कर लिए हैं।

फेसबुक ने किया खुलासा, चोरी हुए तीन करोड़ यूजर्स के डेटा पर...

इकनॉमिक्स टाइम्स को एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि प्रस्ताव तैयार है और राज्यों की भी सहमति है। अधिकारी ने बताया कि संसद के शीतकालीन सत्र में इस बदलाव को पारित कराने के लिए लाया जा सकता है। उन्होंने यह भी कहा कि इस कदम से राज्यों के राजस्व पर असर नहीं पड़ेगा।

पीएम मोदी भगवान विष्णु के 11 वें अवतार : अवधूत

बता दें, कि स्टैंप ड्यूटी भूमि खरीद से जुड़े ट्रांजैक्शंस और डॉक्युमेंट्स पर लगता है, लेकिन इसे GST के दायरे से बाहर रखा गया था। बिल्स ऑफ एक्सचेंज, चेक, लेडिंग बिल्स, लेटर्स ऑफ क्रेडिट, इंश्योरेंस पॉलिसीज, शेयर ट्रांसफर, इकरार-नामा जैसे वित्तीय साधनों पर स्टैंप ड्यूटी संसद से तय होता है। हालांकि, अन्य वित्तीय साधनों पर स्टैंप ड्यूटी की दर राज्य तय करते हैं।

स्वामी सानंद के मौत से सहमे योगी आदित्यनाथ, अब उठाया ये कदम

स्टैंप ड्यूटी में भिन्नता की वजह से अक्सर लोग ट्रांजैक्शन ऐसे राज्यों के जरिए करते हैं, जहां दर कम होती है। मार्केट रेग्युलटर सिक्यॉरिटीज ऐंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया (SEBI) ने इससे पहले राज्यों को सलाह दी थी कि इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से होने वाले फाइनैंशल ट्रांजैक्शन पर स्टैंप ड्यूटीज को एकसमान बनाएं या माफ कर दें।

आगामी दो वर्षों में भी इन शेयरो की प्रॉफिट ग्रोथ में होगी वृद्धि, जानिए कौन है वो शेयर

loading...