Breaking News
  • तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के प्रमुख के.चंद्रशेखर राव दूसरी बार बने मुख्यमंत्री
  • बीजेपी की संसदीय दल की बैठक, पीएम मोदी भी शामिल
  • जम्मू-कश्मीरः सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच बारामुला में मुठभेड़, दो आतंकी ढेर
  • संसद पर हुए आतंकी हमले की 17वीं बरसी, शहीदों को दी जा रही है श्रद्धांजलि

इतना शानदार ऑफर देकर फंस गई अमेजॉन और फ्लिपकॉर्ट, वकीलों ने कहा गैर-कानूनी है

नई दिल्ली: अमेजॉन और फ्लिपकॉर्ट समेत अन्य कई ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट आने वाले दिनों में ग्राहको को बंपर ऑफर दे रही है। हालाकं खास तौर पर अमेजॉन और फ्लिपकॉर्ट की बात करे तो 10 से 15 अक्टूबर अमेजॉन का द ग्रेट इंडियन फेस्टिवल और 10 से 14 अक्टूबर फ्लिपकॉर्ट की बिग बिलियन डे सेल चलने वाली है। इस दौरान ग्रहकों को एक से बढ़कर एक बंपर ऑफर दिए जएंगे।

लेकिन इससे पहले एक हैरान कर देने वाली खबर आई है। दरअसल, फ्लिपकॉर्ट और अमेजॉन ने हाल ही में ग्राहकों को क्रेडिट से सामान लेने के लिए आधार कार्ड का इस्तेमाल करने का ऐलान किया है। लेकिन शॉपिंग वेबसाइट के इस कदम को कुछ वकीलों ने आधार इस्तेमाल पर सुप्रीम कोर्ट के हालिया फैसले के खिलाफ करार दिया है। बता दें कि कोर्ट ने साफ तौर कहा कि सिर्फ सरकारी योजनाओं के लिए ही आधार अनिवार्य है, इसके अलावा अन्य किसी भी जगह पर आधार को अनिवार्य नहीं किया जा सकता है।

दिल्ली एम्स में 2000 पदों पर भर्ती, सौलरी 34,000 से भी अधिक

मीडिया रोपोर्ट के अनुसार ये दोनों कंपनिया अपनी बिक्री बढ़ाने के लिए बिना क्रेडिट या डेबिट कार्ड के भी ग्राहकों को इंस्टैंट क्रेडिट ऑफर कर रही हैं और इसके लिए ग्राहकों को आधार नंबर देना होगा। बताया जाता है कि इंस्टैंट लोन से कंपनी अपने उन ग्राहकों को टारगेट करेगी जो पैसो की कमी के कारण सामान नहीं खरीद पा रहे हैं, लेकिन उन्होंने अपने कार्ट में समान लिस्ट करस लिया रहा है।

9 स्पीड ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन से लैस 5th जेनरेशन कार होंडा CR-V लॉन्च

बताया जाता है कि कंपनी ऐसे ग्राहकों को ध्यान में रखते हुए मोबाइल ऐप पर माध्यम से 60 हजार रुपये तक लोन ऑफर कर रही है साथ ही इन पैसो पर कंपनी की ओर से कोई ब्याज भी नहीं लिया जाएगा। लेकिन इसके लिए ग्राहकों को अपना आधार नंबर और पैन नंबर देना होगा, जिसकी मदद से ग्राहक पता कर सकते हैं कि उन्हें कितना लोन मिलेगा। लेकिन वकीलों की माने तो कंपनियों का ये ऑफर सुप्रीम कोर्ट के नियमों का उलंघन करती है।

विवेक तिवारी हत्याकांड, SIT जांच रिपोर्ट में हुआ ऐसा खुलासा!

हालांकि दोनों कंपनियों की ओर सा मामले पर सफाई पेश करते हुए कहा गया है कि कंपनी सभी कानूनों और सुप्रीम कोर्ट के फैसले का पालन करने के प्रति पूर्णतः समर्पित है। इन कंपनियों ने साफ तौर पर कहा कि किसी भी देश के कानून का पालन करना हामारी पहली प्राथमिकताओं में से एक है। यानी कंपनियों के अनुसार वे किसी तरह से कानून का उंलघन नहीं कर रहे हैं।

loading...