Breaking News
  • पहली बार पत्थर फेंकने वालों के खिलाफ मामले वापस होंगे: J&K सीएम
  • दिल्ली: पीएम मोदी ने किया साइबर स्पेस पर 5वीं वैश्विक सम्मेलन का उद्घाटन
  • रिहा होते ही हाफिज सईद ने उगला जहर, कहा- जल्द आजाद होगा कश्मीर
  • कोहरे के कारण 17 ट्रेन लेट, 6 के समय में बदलाव, एक रद्द

भारत-जापान वाले बुलेट ट्रेन की नींव से पहले चीन का बड़ा बयान!

बीजिंग/नई दिल्ली: आज बुधवार को जापानी प्रधानमंत्री शिंजो आबे गुजरात के अहमदाबाद पहुंचे हैं। आबे का यह दौरा भारत के लिए बेहद खास है, क्योंकि इस दौरे के दौरान गुरुवार को पीएम मोदी और आबे में चलने वाली पहली बुलेट ट्रेन की नींव रखने वाले हैं, लेकिन इससे पहले इसी मुद्दे पर चीन ने एक बड़ा ऐलान किया है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार बुधवार को चीन ने कहा कि वो हाई स्पीड रेल प्रोजेक्ट्स में भारत की मदद करना को तैयार है। खबरों के अनुसार चीन पहले भी भारत में हाई स्पीड रेल प्रोजेक्ट को लेकर भारत को ऑफर दे चुका है, लेकिन भारत ने चीन की बजाय जापान को इस काम का ऑफर दिया है। लेकिन इसके बाद अब चीन ने फिर से इंडिया को यह ऑफर दिया है कि हाई स्पीड रेल प्रोजेक्ट के लिए चीन भारत की मदद करेगा।

जापानी PM और उनकी पत्नी के साथ मोदी का शानदार रोड शो, बंदरों से हुई मुलाकात!

रिपोर्ट के अनुसार चीन की फॉरेन मिनिस्ट्री के स्पोक्सपर्सन गेंग शुआंग से भारत और जापान के बीच बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट पर सवाल पूछा गया, जिसके जवाब में उन्होंने कहा कि हम रीजनल कोऑपरेशन बढ़ाने पर फोकस करना चाहते हैं। इस क्षेत्र के देशों को हाई स्पीड रेल नेटवर्क से जोड़ने में मदद के लिए चीन तैयार है।

शुआंग ने यह भी कहा कि हम भारत और इस क्षेत्र के बाकी देशों को हाई स्पीड रेल नेटवर्क तैयार करने में मदद देना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि भारत के साथ प्रैक्टिकल कोऑपरेशन की जरूरत है। इस बारे में बातचीत भी चल रही है और हमें  उम्मीद है कि ये बातचीत जल्द ही किसी नतीजे पर पहुंचेगी। इसी के साथ शुआंग ने यह भी कहा कि हाई स्पीड रेल प्रोजेक्ट्स को लेकर जिन अथॉरिटीज को फैसला लेना है, उनसे चीन की अथॉरिटीज बातचीत कर रही हैं।

कुलभूषण जाधव मामले ने लिया नया मोड़!

आपको बता दे कि चीन में दुनिया का सबसे बड़ा हाई स्पीड रेल नेटवर्क है। चीन भारत के कुछ रेलवे स्टेशंस को रिनोवेट भी कर रहा है। इसके अलावा रेल यूनिवर्सिटी बनाने में भी चीन भारत की मदद कर रहा है, हालांकि चीन द्वारा दिए गए हाई स्पीड रेल प्रोजेक्ट्स के ऑफर पर अभी तक  भारत ने कोई ठोस रिएक्शन नहीं दिया है, जिससे ऐसा साबित हो कि दोनों देश इस मुद्दे पर साथ है।

loading...