Breaking News
  • 18वां कारगिल विजय दिवस आज- शहीद सैनिकों को नमन कर रहा है देश
  • फसल बीमा से जुडी कम्पनियाँ नुकसान का फ़ौरन आंकलन करें- मोदी
  • पाकिस्तानी आतंकवादी मोहम्मद कोया को कर्नाटक कोर्ट से 7 साल की सजा
  • भारत-श्रीलंका के बीच पहला टेस्ट मैच गाले में आज रंगना हेराथ संभालेंगे कप्तानी, चांदीमल बाहर
  • बाढ़ प्रभावित गुजरात में हवाई सर्वेक्षण के बाद पीएम ने किया 500 करोड़ का ऐलान
  • राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल का चीन दौरा- BRICS देशों की बैठक में लेंगे हिस्सा

22 राज्यों में दिखा GST का सबसे बड़ा असर


नई दिल्ली: 1 जुलाई 2017 से वस्तु एवं सेवा कर यानी GST लागू होने के बाद वैसे तो कई तरह के बदलाव देखे जा रहे हैं, लेकिन उनमें से एस बड़ा बदलाव यह है कि देश के करीब 22 राज्यों ने अपनी सीमाओं के चेकपोस्ट को हटा लिए हैं। गौर हो कि GST के तहत अब एक देश एक टैक्स की प्रणाली को अमल में लाया गया है।

सीमाओं के चेकपोस्ट हटाने वाले राज्यों में मुख्य तौर पर उत्तर प्रदेश, बिहार, हरियाणा, गुजरात, मध्य प्रदेश, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, केरल तथा तमिलनाडु,दिल्ली, पश्चिम बंगाल को मिला कर कुल 22 राज्यों के नाम शामिल हैं, जबकि वित्त मंत्रालय के हवाले से कहा जा रहा है कि असम, पंजाब, हिमाचल प्रदेश के साथ अन्य कई पूर्वोत्तर राज्य भी चेकपोस्ट हटाने की प्रक्रिया में हैं।

देखिए स्मृति ईरानी की कुछ पुरानी तस्विरें, ‘क्योंकि सास भी कभी बहू थी’

आपको बता दें कि पहले ट्रक वालों को कई चेक पोस्ट से होकर गुजरना पड़ता था, जिसके कारण कई बार भयंकर जाम का सामना करना पड़ता था, लेकिन अब इन सभी चेकपोस्ट के हट जाने से इस समस्या से भी कुछ हद तक निजात मिल सकता है। विश्व बैंक की एक रिपोर्ट के हवाले से बताया जाता है कि चेकपोस्ट पर ट्रकों की देरी के कारण सालाना करीब 900 करोड़ से लेकर 2300 करोड़ तक का नुकसान उठाना पड़ता है।

आमिर खान की दंगल की कमाई पर खुलासा- आमिर के ‘प्रवक्ता’ ने दिया बयान

पीएम मोदी पर फिल्म बना रहे हैं परेश रावल- जानिए कौन बनेगा नरेंद्र मोदी

loading...