Breaking News
  • नंदा देवी शिखर के पास ITBP को 7 पर्वतारोहियों के शव मिले
  • हार के बाद अखिलेश-मुलायम पर भड़की मायावती
  • BMC ने CM देवेंद्र फडणवीस के बंगले को घोषित किया डिफॉल्टर
  • संसद के दोनों सदनों में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव आज
  • बांग्लादेश में ट्रेन हादसे में 4 की मौत, 150 से ज्यादा घायल

लालू के लाल ने कर दिया कमाल, पहले बाउंसर से पत्रकार को पिटवाया फिर लगाया हत्या करने का आरोप!

पटना: पार्टी और परिवार के खिलाफ बगावती तेवर को लेकर अक्सर मीडिया की सुर्खियों में बने रहने वाले तेजप्रताप यादव का एक और नया अवतर रविवार को उस समय दिखा जब वह अपने मताधिकार का प्रयोग करने पहुंचे। दरअसल, लोकसभा चुनाव के सातवें व अंतिम चरण में बिहार की आठ सीटों के लिए वोट डाले जा रहे हैं।

इस बीच पटना में राष्ट्रीय जनता दल अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे व पूर्व मंत्री तेजप्रताप यादव भी पटना के वेटनरी कॉलेज के एक मतदान केंद्र पर वोट डालने पहुंचे। लगभग सभी सवालों का अजब-गजब अंदाज में जवाब देने वाले तेज प्रताप का बयान और अच्छी तस्वीरों के लिए मीडियाकर्मी उनकी ओर बढ़े।

इसी बीच एक समाचार पत्र के कैमरामैन का पैर तेजप्रताप के वाहन के पहिए के नीचे आ गया। आरोप है कैमरामैन लगातार गाड़ी हटाने की मांग करता रहा लेकिन तेजप्रताप ने उसकी एक नहीं सुनी। जिसके बाद मीडिया कर्मियों ने तेजप्रताप के प्रति विरोध जताया, इस दौरान किसी तरह से उनकी गाड़ी का शीशा टूट गया।

वहीं अपने बॉस का विरोध होता देख तेजप्रतार की सुरक्षा में तैनात बाउंसर बौखला उठे और पत्रकार की जमकर पिटाई कर दी। बाउंसर के शक्ल में तेजप्रताप के गुंडों ने पत्रकार को इतना मारा कि उसे अस्पतला में भर्ती करना पड़ा और तेजप्रताप ये सब देखते रहे, लेकिन हद तो तब हुई जब उल्टा तेजप्रताप ने पत्रकार पर जानलेवा हमला करने की धाराओं में शिकायत दर्ज करा दी।

भला सोचिए क्या पत्रकार अपना कैमरा इसलिए लेकर पहुंचा था कि वह उससे तेजप्रताप के सिर पर मारकर उनकी हत्या कर दे, या फिर इसलिए कि वह अपने कैमरे में तेजप्रताप की एक सुनहरी तस्वीर कैद करे, ताकि जनता को सत्तायता के साथ यह बताया जा सके कि चारा घोटाले में जेल की सजा काट रहे लालू यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप ने भी अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया है।

वहीं तेजप्रताप और उनके गुंडों के इस रवैये को लेकर बीजेपी की माने तो गुंडागर्दी आरजेडी की खून में रही है। उन्हें लगता है कि बिहार में आज भी जंगलराज ही है। जबकि मीडिया के कैमरे में कैद हुए मारपीट की तस्वीरों को झूठलाते हुए तेजप्रताप ने इस बात से भी इनकार किया है कि सुरक्षा कर्मियों ने मारपीट की है। आपकी जानकारी के लिए बता दे कि तेजप्रताप यादव सरकारी सुरक्षाकर्मियों के अलावा निजी सुरक्षाकर्मियों के घेरे में भी चलते हैं।

loading...