Breaking News
  • आज शाम 6 बजे तक खत्म हो सकता है कर्नाटक का नाटक, कुमारस्वामी करेंगे फ्लोर टेस्ट
  • बिहार के दरभंगा में अभी भी बाढ़ से राहत नहीं, लोगों ने सड़क पर ठिकाना
  • आज होगा ब्रिटेन के अगले प्रधानमंत्री का चयन
  • बीजेपी संसदीय दल की बैठक के बाद, पीएम मोदी कर सकते हैं सांसदों को संबोधित

बिहार के लाल शहीद पिंटू सिंह को श्रद्धांजलि देने नहीं पहुंचा कोई मंत्री, पिता ने सुनाई खरी खोटी

पटना: केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) के शहीद जवान को राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) के नेताओं द्वारा श्रद्धांजलि न देने पर पिता द्वारा गुस्सा जाहिर करने के बाद जनता दल-यूनाइटेड (JDU) के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने उनसे माफी मांगी है।

किशोर ने रविवार को ट्वीट किया, "हम उन सभी लोगों की ओर से माफी मांगते हैं जिन्हें दुख की इस घड़ी में आपके साथ होना चाहिए था।"

बेगुसराय जिले के रहने वाले पिंटू सिंह शुक्रवार को जम्मू एवं कश्मीर के कुपवाड़ा में आतंकवाद-रोधी अभियान के दौरान शहीद हो गए थे। नम आंखों से लोगों ने शहीद को अंतिम विदाई दी। शहीद जवान की 4 साल की बेटी पीहू ने उन्हें मुखाग्नि दी। इससे पहले रविवार सुबह करीब साढ़े आठ बजे शहीद का शव शरीर इंडिगो फ्लाइट से पटना एयरपोर्ट पहुंचा। जहां डीएम कुमार रवि, एसएसपी गरिमा मलिक समेत पुलिस और सीआरपीएफ के अधिकारियों ने शहीद जवान को श्रद्धांजलि दी।

कांग्रेस की तरफ से प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा, राजद से शिवानंद तिवारी जवान को श्रद्धांजलि देने पहुंचे थे। इस दौरान बीजेपी और जेडीयू की तरफ से कोई नेता मौजूद नहीं थे।

पिता ने क्या कहा

इससे नाराज उनके पिता चक्रधर सिंह ने कहा, "मंत्रियों को बस सत्ता में बने रहने की चिंता है। यह दर्शाता है कि उन्हें सैनिकों की कितनी चिंता है।" उन्होंने कहा, "राजग नेता संकल्प रैली को लेकर अधिक चिंतित थे। उन्होंने एक बहादुर सैनिक को श्रद्धांजलि देने की उपेक्षा की है जो देश के लिए शहीद हो गया।"

मुठभेड़ में बेटा हुआ शहीद

बता दें कि शुक्रवार शाम कुपवाड़ा में आतंकियों से मुठभेड़ के दौरान सीआरपीएफ जवान पिंटू कुमार शहीद हो गए थे। वे खगड़िया जिले के गंगसौर गांव के रहने वाले थे। जवान का पूरा परिवार बेगूसराय के धनचक्की बगरस गांव में रहता है।

loading...