Breaking News
  • आईसीसी महिला विश्व टी-20 चैम्पियनशिप के अंतिम ग्रुप मुकाबले में भारत का सामना ऑस्ट्रेलिया से
  • जममू-कश्मीर: पंचायत चुनाव के पहले चरण के लिए वोटिंग, जम्मू-21, घाटी-16 और लद्दाख के 10 ब्लॉको में वोटिंग
  • प्रधानमंत्री मोदी का मालदीव दौरा, नवनिर्वाचित राष्ट्रपति सोलिह के शपथ ग्रहण समारोह

बिहार की राजनीति में भूचाल: इस बड़े नेता से मिलने दिल्ली पहुंचे नीतीश कुमार!

पटना: आगामी लोकसभा चुनाव जैसे जैसे नजदीक आ रहा है वैसे वैसे बीजेपी के सहयोगी दल बीजेपी की परेशानी बढ़ा रहे हैं। शिवसेना सहित कई दलों के बगावती शुर अपनाने के बाद अब बिहार में भी राजनीति चर्चाएँ जोर हो गयी है। इसी बीच नीतीश कुमार एक नेता से मुलाकात के लिए दिल्ली पहुंच रहे हैं।

बतादें कि मामला कुछ इस प्रकार है कि शनिवार को जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) के प्रमुख और बिहार के सीएम नीतीश कुमार दिल्ली में पहुंच रहे हैं। उनका दिल्ली दौरा आगामी जेडीयू की राष्ट्रीय कार्यकारणी की बैठक से पहले हो रहा है, खासबात और बीजेपी को परेशान करने वाली बात यह है कि नीतीश कुमार यहाँ लोक जनशक्ति पार्टी के प्रमुख और केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान से मुलाकात करेंगे। यह मुलाकात ऐसे में समय में हो रही है जब दोनों ही पार्टी बिहार में लोकसभा सीटों के लिए बीजेपी से आरपार की लड़ाई के मूड में है। राज्य में जेडीयू 18-20 से सीट की मांग पर अड़ी है तो लोक जनशक्ति पार्टी भी 7-8 सीट मांग रही है।

बड़ी खबर: पीएम मोदी के कार्यक्रम में शामिल होने आ रही बस पर गोलीबारी, कई घायल

ऐसे में दोनों की मुलाकात बीजेपी पर दवाब बनाने के नजरिये से भी देखी जा रही है। 8 जुलाई को जेडीयू की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक है। वहीँ आगामी 12 जुलाई को नीतीश कुमार, बीजेपी प्रमुख अमित शाह से मुलाकात करेंगे। जहाँ आगामी लोकसभा चुनाव में सीट शेयरिंग को लेकर चर्चा होनी है। लेकिन उससे पहले ही दोनों दलों के प्रमुख की मुलाकात बीजेपी के लिए मुश्किल की घड़ी है। दरअसल हालिया उपचुनाव और जनता का रुख देखते हुए बीजेपी के सहयोगी दलों ने भी आंखें दिखानी शुरू कर दी हैं।

फिर मुश्किल में सपा संरक्षक मुलायम सिंह: कोर्ट ने दिया बड़ा आदेश

जहाँ पहले से ही बिहार में बीजेपी का गठबंधन मुश्किल भरा हो गया है। 2014 में नीतीश कुमार की अनुपस्थित के कारण बीजेपी को सीट बंटवारे में कोई दिक्कत नहीं आई थी, लेकिन इस बार जेडीयू भी साथ है। ऐसे में बीजेपी, लोक जनशक्ति पार्टी और उपेन्द्र कुशवाहा की राष्ट्रीय लोक समता पार्टी को साथ लेकर चलना थोड़ा मुश्किल साबित होगा।

यह भी देखें-

loading...