Breaking News
  • राजकीय सम्मान के साथ मनोहर पर्रिकर का अंतिम संस्कार
  • प्रयागराज से वाराणसी तक बोट यात्रा कर रही हैं प्रियंका गांधी
  • बोट यात्रा से पहले प्रियंका ने किया गंगा पूजन, देश का उत्थान और शांति मांगी
  • कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी का अयोध्या दौरा रद्द
  • लोकसभा चुनाव के दूसरे दौर के लिए नामांकन दाखिल करने का आज आखिरी दिन
  • छत्तीसगढ़: सुकमा में सुरक्षा बलों ने मुठभेड़ में चार नक्सलियों को किया ढेर, भारी मात्रा में हथियार और गोला बारूद बरामद
  • बीजेपी की स्टार प्रचारकों की लिस्ट से आडवाणी और जोशी का नाम गायब
  • बीजेपी की स्टार प्रचारकों की लिस्ट से आडवाणी और जोशी का नाम गायब

बिहार की अजब पुलिस का गजब खेल, थाने में बड़ा ‘कांड’ कर 8 पुलिस वाले फरार

पटना: तरह-तरह के आपराधिक कारनामों के लिए मशहूर बिहार से एक और हिला देने वाली खबर सामने आई है। अक्सर आपने सुना या देखा होगा की पुलिस के डर से अपराधी भागते फिरते हैं, लेकिन बिहार में इन दिनों कुछ ऐसा चल रहा है कि पुलिस को ही भागनी पड़ रही है।

इससे पहले की इस मामले के तह तक चले, ये समझना जरूरी है कि समाज के प्रति पुलिस की बड़ी जिम्मेदारी होती है। पुलिस को समाज में रक्षक का दर्जा प्राप्त है, लेकिन जब रक्षक ही भक्षक बन जाए तो कभी-कभी तस्वीर बेहद ही भयावह हो जाती है।

चुनाव से पहले पीएम मोदी ने कहीं ऐसी बात, अखिलेश यादव का दिल खुश हो गया…

दरअसल, आम तौर पर पुलिस समाज में आम लोगों के बीच छिपे अपराधियों को दबोचती है, उसके खिलाफ जांच-पड़ताल करती है और पुलिस की रिपोर्ट के आधार पर अपराधी को क्या सजा दी जाए, ये फैसला कोर्ट के जिम्मे होता है। लेकिन बिहार पुलिस अब अपराधियों को न सिर्फ दबोच रही है, बल्कि खुद ही इंसाफ भी कर रही है।

हालांकि यह कारनामा कुछ पुलिसकर्मियों का है, लेकिन इसकी बदमानी पूरा पुलिस महकमा ढो रहा है। जानकारी के अनुसार बीते सप्ताह बिहार के सीतामढ़ी में पुलिस हत्या और लूट के मामले में दो आरोपी (मोहम्मद तस्लीम और गुफरान) को हिरासत में लिया।

कितने पैसे लेकर टिकट बांट रहे हैं कुशवाहा, दुबई में मकान भी खरीद लिया!

बताया जाता है कि पुलिस दोनों युवकों के उसके घर से उठाकर लाई थी। जिसके बाद पूछताछ की बात कहते हुए पुलिस आरोपियों को सीतामढ़ी के डुमरा थाना लेकर आई, लेकिन कुछ घंटों की पूछताछ के बाद ही दोनों आरोपियों की हालत इतनी खराब हो गई कि अस्पताल ले जाते-जाते ही दोनों की मौत हो गई।

खबरों के अनुसार, दोनों युवक मोतिहारी जिले के चकिया थाना क्षेत्र के रमडीहा गांव के रहने वाले थे, जिनकी मौत पुलिस ने हिरासत पिटाई के कारण हुई है। हालांकि पुलिस की माने तो दोनों आरोपियों की मौत अस्पताल में हुई है। वहीं पहले पुलिस इस बात से भी इनकार कर रही थी कि आरोपियों की मौत हिरासत में पिटाई के कराण हुई है।

महाराज ने दी BJP को चेतावनी तो एजाज खान ने कही दी ऐसी बात…

लेकिन देखते ही देखते मामले में बवाल शुरू हुआ और आनन-फानन में पुलिस ने थानाध्यक्ष समेत आठ पुलिसकर्मियों को निलंबित कर, सभी पर हत्या का मामला दर्ज किया और पुलिस हिरासत में रुन्नीसैदपुर थाना भेज दिया। आपको यह जानकर हैरानी होगी की आरोपी पुलिसकर्मी पुलिस हिरासत से भी भाग निकले और उनका अबतक कुछ अता-पता नही है। हालांकि अब रुन्नीसैदपुर थाने के थानेदार को भी निलंबित कर दिया गया है।

loading...