Breaking News
  • एशियाई खेलः बजरंग पुनिया जीता पहला गोल्ड मेडल, किया दिवंगत अजट जी को समर्पित
  • एशियाई खेलः 10 मी. एयर राइफल में दीपक कुमार ने जीता रजत पदक
  • कर्नाटक के कई तटीय जिले बाढ़ की चपेट में, बचाव एवं राहत अभियान जारी

लैंबोर्गिनी-फरारी को टक्कर देगी यह भारतीय कंपनी की कार

भारतीय कंपनी वजीरानी ऑटोमेटिव ने पिछले दिनों यूके में गुडवुड फेस्टिवल ऑफ स्पीड के दौरान इलेक्ट्रिक हाइपरकार पेश किया। कंपनी ने इस कार को ‘शूल' , ‘वजीरानी शूल’ नाम से पेश किया है। जिसका लुक आपको पहली नजन में ही दिवाना बना देगा।

लुक में बेहद शानदार दिखने वाली इस कार का मुकाबला लैंबोर्गिनी-फरारी जैसी कारों के साथ हो रहा है, लेकिन रफ्तार के मामले में यह कारण लैंबोर्गिनी और फरारी जैसी कारों की कतार में पीछे दिख सकती है। क्योंकि कंपनी ने पहले ही साफ कर दिया है कि यह हाई-स्पीड कार नहीं है।

मां-बेटी की खूबसूरती से जलता है पूरा बॉलीवुड!

कंपनी के अनुसार इस कार को बनाते समय इसके हैंडलिंग और ब्रेक सिस्टम पर खास काम किया गया है। इस कार की एक बड़ी खासियत है कि यह पूरी तरह से इकोफ्रेंडली है, जिसे कार्बन फाईबर के इस्तेमाल से बनाया गया है। कार के चारों पहये में अलग-अलग चार मोटर दिए गए हैं जो इस कार को ऑल-व्हील ड्राइव कार बनाता है।

कार के पहीये में लगाए गए मोटर्स एकल-अनुपात गियरबॉक्स पर चलते हैं, जबकि इस कार में दी गई बैटरी का वजन 300 किलो का है जो यात्री सीट के ठीक पीछे है। कार को डिजाइन करने वाले चंकी वेजिरानी भारत के पहले ऐसे डिजाइनर हैं जो जगुआर लैंड रोवर और रोल्स रोयस जैसी बड़ी कंपनियों के साथ काम कर चुके हैं।

गेट खुलते ही डांस करने लगी एक्ट्रेस, छूट गई ट्रेन तो दिखा ऐसा नजारा

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, वेजिरानी की जड़ें भारत से जुड़ी हैं, और वे इस कार का उत्पादन भारत में करना चाहते हैं। हलांकि फिलाहल कंपनी का कार्यलय कैलिर्फोनिया है, वहीं इस हाईटेक कारन को भारत में बनाने में कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है!

इन्हे भी सुनिए!

loading...