Breaking News
  • आईसीसी महिला विश्व टी-20 चैम्पियनशिप के अंतिम ग्रुप मुकाबले में भारत का सामना ऑस्ट्रेलिया से
  • जममू-कश्मीर: पंचायत चुनाव के पहले चरण के लिए वोटिंग, जम्मू-21, घाटी-16 और लद्दाख के 10 ब्लॉको में वोटिंग
  • प्रधानमंत्री मोदी का मालदीव दौरा, नवनिर्वाचित राष्ट्रपति सोलिह के शपथ ग्रहण समारोह

बिना इंश्योरेंस वाले वाहन से दुर्घटना मामले में SC का फैसला, गाड़ी से धोना होगा हाथ

नई दिल्ली:  देश की सबसे बड़ी अदालत सुप्रीम कोर्ट ने हाल ही में सड़क दुर्घटनाओं पर चिंता जताते हुए एक अहम आदेश दिया था। कोर्ट के अनुसार नए वाहनों के रजिस्ट्रेशन के समय ही थर्ड पार्टी इंश्योरेंस अनिवार्य होगा। जिसके बाद अब कोर्ट ने बिना इंश्योरेंस वाले वाहन से दुर्घटना के मामले में भी एक अहम फैसला सुनाया है।

पंजाब  से जुड़े एक मामले की सुनवाई करते हुए बिना इंश्योरेंस वाले वाहन से दुर्घटना को लेकर अहम फैसला सुनाते हुए कोर्ट ने कहा कि अगर बिना इंश्योरेंस के वाहन से दुर्घटना होती है तो उस वाहन को बेच कर पीड़ित को मुआवजा दिया जाए। इस संबंध में आदेश जारी करते हुए कोर्ट ने देश के सभी राज्यों को निर्देश जारी किया है।

माल्या से मुलाकात पर जेलटी की सफाई- हां एक बार यहां हुई थी मुलाकात!

राज्यों को निर्देश देते हुए कोर्ट ने कहा कि सभी राज्य 12 हफ्ते के अंदर इस नियम को लागू करें। सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के बाद अब बिना इंश्योरेंस वाले वाहन दुर्घटना के बाद जब्त होंगे और MACT कोर्ट इन वाहनों को बेचेगी और इससे मिलने वाली रकम दुर्घटना में पीड़ित हुए व्यक्ति को दी जाएगी।

‘माल्या के किंगफिशर में राहुल गांधी की कितनी हिस्सेदारी है’

कोर्ट का यह फैसला एक याचिका पर सुनवाई के दौरान आया है। मामले में याचिका दायर करते हुए याचिकर्ता ऊषा देवी ने कोर्ट को बताया कि ये नियम दिल्ली MACT एक्ट में बनाया गया है, लेकिन अन्य राज्यों के लिए ऐसे नियम नहीं है। ऐसेमें यदि किसी वाहन का बीमा नहीं है और दुर्घटना हो जाती है तो उससे पीड़ित या उसके परिवार को वित्तीय मदद नहीं मिल पाती, लिहाज सभी राज्यों के लिए ऐसे नियम होने चाहिए।

सगे भाईयों ने किया शादीशुदा महिला के साथ हैवानियत, कोर्ट ने दी ऐसी सजा

loading...