Breaking News
  • राज्यसभा सांसद मदन लाल सैनी के निधन के बाद आज होने वाले BJP संसदीय दल की बैठक रद्द
  • ओडिशा विधानसभा में आज से शुरू होगा मानसून सत्र
  • WC 2019 : लॉर्ड्स के मैदान पर आज भिड़ेंगे इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया
  • राज्यसभा की दो सीटों पर अलग मतदान के विरोध में कांग्रेस की अपील पर SC में सुनवाई आज
  • 26 और 27 जून जम्मू-कश्मीर में रहेंगे शाह, करेंगे अमरनाथ यात्रा की सुरक्षा की समीक्षा

बिहार में जरूरी नहीं है कार खरीदना, नई योजना शुरू

पटनाः अगर आप कार की चाहत रखते हैं लेकिन आपके पास कार खरीदने के लिए प्रयाप्त पैसे नहीं हैं तो आपको परेशान होने की जरूर नहीं है। क्योंकि आप बैंक से लोन या ईएमआई पर भी कार खरीद सकते हैं। लेकिन ईएमआई पर भी कार लेने के लिए कुछ डाउन पेमेंट भी करनी होती है, और आपको पास डाउन पेमेंट के भी पैसे नहीं हैं तब भी आप अपना कार का शैक पूरा कर सकते हैं।

दरअसल, परिवहन विभाग ने यहां शनिवार को रेंट ए कैब नाम की योजना शुरू की है। जिसके तहत अब आप निर्धारित दर पर कार किराये पर भी ले सकते हैं। आप तीन साल तक के लिए कार किराये पर ले सकते हैं। इस योजना की शुरुआत परिवहन मंत्री संतोष निराला और सचिव संजय अग्रवाल ने की है। जिसके तहत कोई भी व्यक्ति बिना ड्राईवर के कार किराये पर ले सकता है।

इस संबंध में जानकारी देते हुए परिवहन सचिव ने बताया कि परिवहन विभाग ने योजना के लिए मोटर यान अधिनियम 1988 के तहत जूम कार इंडिया प्राइवेट लिमिटेड को लाईसेंस दिया है। इस योजना के तहत पहले चरण में राजधानी पटना में 25 गाड़ियां किराये पर उपलब्ध कराई गई हैं।

गाडी रेंट पर लेने के लिए उपभोक्ता को अपने मोबाईल फोन में एक एप्प डाउनलोड करना होगा। जिसके माध्यम से आपको यह बताना होगा कि आपको कौन की कार कितने दिनों के लिए चाहिए। इसके बाद कुछ अन्य जरूर प्रक्रियाओं को पूरा करने के बाद कार की चाबी आपको पकड़ा दी जाएगी।

आपकी जानकारी के लिए बता दे अगर आप गाड़ी का मंथली सब्सक्रिप्शन चाहते हैं तो तीन हजार रुपये एडवांस में देने होंगे। आप अपने लिए बड़ी-छोटी जैसी भी गाड़ी चुनते हैं आपको पैसे भी उसी अनुसार देने होंगे। किराये पर कार लेने के लिए आपके पास 70 रुपये प्रति घंटे से लेकर 135 रुपये प्रति घंटे तक का विकल्प होगा, जबकि वीकएंड के दिनों में 115 रुपये से लेकर 185 रुपये प्रति घंटे के हिसाब से रेंट देना पड़ सकता है।

loading...