Breaking News
  • नहाय खाय के साथ प्रकृति और सूर्य की उपासना का पर्व छठ पूजा शुरू
  • लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस-वे पर आज वायु सेना का पहला अभ्यास
  • चीन की कम्युनिस्ट पार्टी ने राष्ट्रपति XiJinping के अगले पांच सालों के कार्यकाल को सहमति दी
  • आज पूरा विश्व मना रहा है United Nations Day, प्रथम विश्वयुद्ध के बाद 1929 में हुआ था गठन

दिल्ली का दिवाना कार मालिक- इस नंबर के लिए खर्च किए इतने पैसे की बन गया रिकॉड

नई दिल्‍ली: आप में कई ऐसे लोग होंगे जो रफ्तार के सौकीन हैं, और उन्हें तरह तरह की गाड़ियों का सौक होता है। वैसे कार के सौकीन लोगों के लिए कार का नंबर भी काफी अहमियत रखता हैं। ऐसे में लोग अपने पसंदीदा नबर के लिए मोटी रकम भी खर्ज करते हैं।

ऐसे आज आपके सामने कुछ कार के नंबर खरीदने को लेकर बने एक रिकॉड के बारे में बताने जा रहे हैं। अगर आप को अपनी कार के लिए अपने पसंद का नंबर चाहिए तो आप कितने रूपये खर्च कर सकते हैं। गौर हो कि 1111 जैसे खास नंबर अभी तक लोगों के लिए VVIP नबंर माना जाता था।

लेकिन हाल ही में दिल्‍ली में 0009 नंबर के लिए एक व्यक्ति ने करीब 9.90 लाख रुपए खर्च किए हैं। इस कार मालिक यह कारनामा एक रिकॉड है क्योंकि ऐसा बताया जाता है कि इससे पहले कभी किसी नंबर के लिए किसी ने इतनी रकम नहीं खर्च किया है।

अगर आप सोच रहे होंगे की कार की नंबरों को लेकर लोगों में इतनी दिवानगी क्यों होती है, तो इसके कई कारण हो सकते है, जैसे की यहा तो वह अपनी कार और उस नंबर से बहुत ज्यादा प्यार करता हो या फिर ज्‍योतिष में विश्‍वास रखते हुए अपना लकी नंबर को ही कार नंबर बनना चाहता हो।

आपको बता दें कि 1111, 2222, 3333, जैसे नंबर यानी सिंगल डिजिट वाली नंबरों की काफी डिमांड होती है, यही कारण है कि ऐसे नंबरों के लिए परिवहन विभाग ऑक्‍शन यानि नीलामी का आयोजन करता है, जिसके तहत इन नंबरों की बिक्री की जाती है।

जानकारी के अनुसार राजधानी दिल्ली में रजिस्‍ट्रेशन नंबरों के लिए ई-ऑक्‍शन की प्रक्रिया करीब 3 साल पहले शुरु की गई थी, तब से लेकर अब तक 0001 नंबर की डिमांड अधिक हुआ करती थी, जिसके लिए लोग लाखों की कीमत चुकाते थे, लेकिन हाल ही में मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया कि 0009 नंबर ने पिछले सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए है।

कार मालिक ने 0009 नंबर के लिए 9.90 लाख रुपये खर्च किए जबकि इससे पहले इस नंबर के लिए निलामी के दौरान 5.30 लाख और 4.10 लाख की ही बोली लगी थी।

loading...