Breaking News
  • मोदी सरकार के खिलाफ विपक्ष का अविश्वास प्रस्ताव गिरा, सरकार के पक्ष में 325 जबकि विपक्ष में पड़े 126 वोट
  • लंदन: महिला हॉकी विश्व कप के आगाजी मुकाबले में इंग्लैंड से भिड़ेगी भारतीय टीम
  • पुणे: 3 करोड़ के पुराने नोट जब्त, गिरफ्तार किए गए 5 लोगों में कांग्रेस पार्षद शामिल
  • मॉब लिंचिंग: अलवर में गोरक्षा के नाम पर अकबर नाम के शख्स की पीट-पीटकर हत्या

भारत इस मंदिर में रहता है एक रहस्यमयी शाकाहारी मगरमच्छ!

तरह-तरह के धार्मिक मान्यताओं के लए मशहूर भारत देश में ऐसे कई मंदिर है, जिसका कोई न कोई रहस्य होता ही है। इन्ही रहस्यों की वजह से भक्त इन मंदिरों की ओर आकर्षित होते हैं। ऐसे में आज आप एक ऐसे ही मंदिर के बारे में बता रहे हैं, जिसे रहस्यमयी मंदिर के तौर पर जाना जाता है।

मंदिर से जुड़ी कुछ ऐसी बाते हैं जिसे जानकर आप वाकई हैरान हो सकते हैं। इससे पहले आपको बता दें कि केरल के इस मंदिर में एक झील है जहां एक रहस्यमयी मगरमच्छ रहता है। यहां के लोगों का मानना है यह मगरमच्छ शाकाहारी है।

बिना किसी मेडिकल जांच के जाने गर्भ में पल रहा बच्चा लड़का है या लड़की!

यह मंदिर केरल के कासरगोड अनंतपूर में स्थित है। लोगों का मानना है कि मगरमच्छ इस मंदिर की रखवाली करता है। इस मंदिर का सबसे बड़ा रहस्य यह है कि इस मंदिर के झील में रह रहे मगरमच्छ की मृत्यु हो जाती है तो दूसरा मगरमच्छ आ जाता है और इसे बबिया कहा जाता है।

इस साल का सबसे बड़ा महासंयोग, इस 1 राशि के जातक जरूर जाने यह खास बात!

यह मंदिर भगवान विष्णु का हैं। जिसके लेकर मान्यता है कि झील में रहने वाला मगरमच्छ पूरी तरह शाकाहारी है और यहां के पंडित इसे प्रसाद खिलाते है। लोगों के अनुसार, मगरमच्छ इस मंदिर की रक्षा करता है औऱ मंदिर के आसपास होने वाली अशुभ घटनाओं का संकेत भी देता है।

VIDEO: कॉलेज में पढ़ने वाली 19 साल की लड़की बनी मिस इंडिया 2018

इस मंदिर की खास बात यह है कि यहां की स्थापित मूर्तियां औषधियों से बनी है। यह मंदिर तिरुअनंतपुरम के अनंत-पद्मनाभस्वामी का मूल स्थान है,  जिसको लेकर लोगों का मानना है कि भगवान यहीं पर आकर स्थापित हुए थे। ऐसा दावा किया जाता मगरमच्छ के शाकाहारी है इसलिए पानी में रहने वाले सभी जीव-जंतु सुरक्षित रहते है।

बताया जाता है कि मगरमच्छ किसी को नुकसान नहीं पहुंचाता है, मगरमच्छ को भोजन के तौर पर भगवान पर चढ़ाया हुआ प्रसाद खिलाया जाता है। हालांकि मगरमच्छ कोई भी आम इंसान खाना नहीं खिला सकता, इसकी जिम्मेदारी मंदिर प्रबंधन की होती है।

loading...