Breaking News
  • संसद के शीतकालीन सत्र का आज दूसरा दिन
  • मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव: 114 सीटों के साथ कांग्रेस पहले नंबर की पार्टी, भाजपा के खाते में 109
  • विधानसभा चुनाव: जीतने वाली दलों को पीएम मोदी ने दी शुभकामनाएं, जनता को धन्यवाद
  • बीजेपी की नीतियों से जनता दुखी है, यही वजह है कि कांग्रेस जीती: मायावती

लक्ष्मण का टीला था लखनऊ की टीले वाली मस्जिद, जाने अब क्यो मचा है घमासान!

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में भाजपा सरकार आने के बाद एक बार फिर से मंदिर-मस्जिद का मुदा सुलग रहा है। ताजा मामला राजधानी लखनऊ से है, जिसमे साफ तौर पर प्रदेश की योगी सरकार सवालों के घेरे में दिख रही है। खबरो के अनुसार राजधानी के मशहूर 'टीले वाली मस्जिद' के सामने लखनऊ नगर निगम भगवान लक्ष्मण की मूर्ति स्थापित करने पर विचारा कर रही है, लेकिन मस्जिद के मौलाना समेत कुछ अन्य लोग इसका विरोध कर रहे हैं।

नगर निगम के फैसले का विरोध करते हुए मौलवियों ने कहा कि अगर मस्जिद के सामने मूर्ति लगाई जाती है तो इसका बुरा असर मस्जिद में होने वाली धार्मिक कार्यों पर पड़ेगा। मौलवियों का मानना है कि मस्जिद के आसपास मूर्ति होने के कारण इस्लामिक तरीके से अपने धार्मिक रीति-रिवाजों को नहीं निभा पाएंगे।

बड़ी खबर: अमित शाह से डर कर BJP में नहीं TMC में शामिल हुए 4 बंगाली परिवार

फैसले को लेकर टीले वाली मस्जिद के मौलाना फजल ए मन्नान ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि, यहां ईद और अन्य कई इस्लामिक त्यौहारों पर लाखों की संख्या में मुस्लिम आते हैं, ऐसे में अगर यहां मूर्ति लगाई जाती है कि हम नवाज नहीं पढ़ पाएंगे। उन्होंने कहा कि ऐसा ही प्रस्ताव साल 1993-1994 के बीच भी लाया गया था, लेकिन विपक्ष के विरोध के बाद ऐसा नहीं हो सका था।

इसके साथ ही मौलाना ने यह भी कहा कि वह इस मसले को लेकर बड़े लोगों से मुलाकात करेंगे और उन्हें इस फैसले पर पुन: विचार करने की अपील करेंगे। वहीं मामले में लखनऊ की मेयर संयुक्ता भाटिया ने कहा कार्यसमिति में भगवान लक्ष्मण की मूर्ति लगाने का प्रस्ताव आया था लेकिन अब तक मूर्ति लगाने के लिए जगह तय नहीं किया गया है। भाटिया ने कहा कि, हम गंगा जमुनी तहजीब को ध्यान में रखते हुए सभी धर्मों के लोगों की भावनाओं का सम्मान करते हैं और मामले पर पुन: विचार करेंगे।

संजू बाबा की दुुनिया बदल देगा संजू, फिल्म देखने से पहले 2 मिनट में पढ़िए धाकड़ रिव्यू

आपको बता दें कि इससे पहले टीले वाली मस्जिद की चर्चा तब तेज हुई थी जब बीजेपी नेता लालजी टंडन की किताब में लिखे गए कुठ अहम बातों का पता चला था। टंडन ने अपने किताब 'अनकहा लखनऊ' के माध्यम से बताया था कि, पहले 'टीले वाली मस्जिद' 'लक्ष्मण का टीला' था।

कटाक्ष: 3 हजार में डिस्क ब्रेक वाली बाइक खरीदा और लाइसेंस के लिए खर्च करने पड़े 4 हजार!

loading...